अगर अचानक आ जाए हार्ट अटैक तो क्या करें # Heart Attack Aane Par Kya Kare

Heart Attack

अगर अचानक आ जाए हार्ट अटैक तो क्या करें #Heart Attack Aane Par Kya Kare in Hindi

हृदय को हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण ऑर्गन का दर्जा दिया गया है | अब हो भी क्यूँ न ? इसी को तो पूरी शरीर की गतिविधि को मेन्टेन करना पड़ता है | अब यह हमारे शरीर के लिए इतना महत्वपूर्ण है तो हमारा भी यह कर्तव्य है कि हम इसका खयाल अच्छी तरह से करें | आज के लोगों में खान-पान के दुष्प्रभाव के चलते अचानक ही बिना किसी लक्षण के हार्ट अटैक आ जाता है | तो चलिए जानते हैं कि अचानक से हार्ट अटैक आ जाए तो क्या करें ? क्या एक पल के लिए भी इन्तजार करना उचित होगा?

लक्षण :

अब आपको कैसे पता चलेगा कि आपके करीबी को हार्ट अटैक मार रहा है | इसके लिए नीचे दिए गए लक्षण पर ध्यान दें |

साँस लेने में कठिनाई Heart Attack

अगर आपके पास में बैठे व्यक्ति को साँस लेने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है या उसे उफनाहट महसूस हो रही है तो समझ लें कि उसे हार्ट अटैक आने वाला है |

चक्कर आना

हार्ट अटैक के दौरान रक्त का संचार बंद हो जाता है और तब ब्रेन को ऑक्सीजन न मिल पाने की वजह से चक्कर आने लगता है, और अगर मरीज गिर जाए तो समझ ले कि उसे हार्ट अटैक ने ही परेशान किया है |

सीने में दर्द

अगर अचानक से सीने में दर्द हो उठता है तो हार्ट अटैक की संभावना बढ़ जाती है |

क्या करें जब आ जाए हार्ट अटैक ?
Advertisements

शरीर में किसी भी बीमारी को दस्तक देते देर नहीं लगती और यह आज के युवाओं में और अधिक लागू होता है | ऐसे में हार्ट अटैक का आ जाना भी निश्चित नहीं हैं | मान लीजिये अगर आपके करीबी को हार्ट अटैक आ गया और घर में बस आप हैं, तो आप क्या करेंगे?

इसलिए आपको यह जान लेना उचित है कि क्या करें ?Heart Attack

  1. देरी न करते हुए तुरंत ही किसी डॉक्टर और एम्बुलेंस को अपने घर बुलाएं |

  2. अब आपको यह ध्यान देना होगा कि आपके करीबी या आपके सामने मौजूद मरीज की धड़कन चालू है या नहीं | इसके लिए आप उसकी पल्स तुरंत ही चेक करें |

  3. पल्स चल रही हो तो ठीक है, लेकिन अगर धड़कन चालू न हो तो आप उसे मरा हुआ न माने |

  4. उसके मुख में लम्बी साँसें दें |

  5. अब आप उसके छाती के ऊपर तेजी से प्रेस करें | और यह लगभग 80 से 100 बार तक करें |

  6. अब आपको यह तय करना है कि आप मरीज की छाती को तब तक दबाते रहेंगे जब तक कि कोई डॉक्टर न आ जाए या फिर मरीज की साँसें न लौट आए |

  7. छाती को आप अपने पूरे जोर के साथ दबाएँ | यह कभी न सोचे कि मरीज की हड्डियाँ फ्रैक्चर हो जाएंगी | उस वक्त आपको मरीज के जान को देखना है न कि उसके बोन को |

Tags:

हार्ट अटैक में क्या खाएं,heart attack se bachne ka tarika,साइलेंट अटैक इन हिंदी,हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक इलाज,दिल के दर्द का इलाज,बाबा रामदेव हार्ट ब्लॉकेज मेडिसिन इन हिंदी,हार्ट अटैक से बचने के आयुर्वेदिक उपाय,हार्ट ब्लोकेज के उपाय,साइलेंट हार्ट अटैक,हार्ट अटैक के कारण,हारट अटैक,हार्ट अटैक के लक्षण और उपाय,दिल का दौरा क्या है,हार्ट अटैक के बाद सावधानियां,
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *