अशोकारिष्ट के फायदे और नुकसान -Health Benefits of Ashokarishta in Hindi

अशोकारिष्ट के फायदे और नुकसान –Health Benefits of Ashokarishta in Hindi

बेस्ट हेल्थ टॉनिक – अशोकारिष्ट (Ashokarishta) 

   यह एक आयुर्वेदिक फीमेल टॉनिक है |अशोकारिष्ट (Ashokarishta) प्रयोग महिलाओं की मासिकधर्म की समस्याओं में प्रमुखता से किया जाता है | मासिकधर्म के समय दर्द की समस्या, गैस होना, कृष्टार्तव, अधिक रक्त स्राव, असमय मासिकधर्म एवं मासिकधर्म की रूकावट आदि रोगों में यह आयुर्वेदिक टॉनिक चमत्कारिक औषधि साबित होती है |

इस आयुर्वेदिक सिरप में अशोक छाल की प्रधानता होती है | इसीलिए यह महिलाओं के लिए इतनी महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक सिरप साबित होती है | अशोक छाल के अलावा इसमें 14 अन्य आयुर्वेदिक जड़ी – बूटीयों का समावेश होता है जो इसे और अधिक कारगर बनाती है | आयुर्वेद चिकत्सा पद्धति में सिरप को अरिष्ट के नाम से जानते है एवं इनमे से अधिकतर का निर्माण संधान प्रक्रिया के द्वारा किया जाता है |
Advertisements

शोकारिष्ट (Ashokarishta) क्यों :-

भारत में आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल काफी सालों से किया जा रहा है। आयुर्वेद प्रणाली में अशोक का गर्भाशय, जननांग और महिलाओं में अन्य प्रजनन विकारों पर इसके चिकित्सीय प्रभावों के कारण इस्तेमाल किया जाता है। यह एक बहुमूल्य जड़ी बूटी होती है जिसका उपयोग गर्भाशय को बेहतर करता है

अशोकारिष्ट के फायदे / Benefits Of Ashokarishta

यह महिला प्रजनन प्रणाली पर केंद्रित है। अशोकारिष्ट ओवरी के रोगों और गर्भाशय के विकारों में फायदा करता है। यह शरीर में हार्मोन के स्तर को संतुलित करता है| इसके कई अन्य लाभ हैं:-Signs of Labor प्रसव के संकेत (लक्षण और उपाय)

  1. मासिकधर्म की समस्याएँ जैसे अनियमित माहवारी, माहवारी के समय दर्द होना, कमजोरी आदि रोगों में यह लाभदायक टॉनिक है |

  2. मासिक धर्म में रक्त का अधिक आना, रुक – रुक कर आना एवं जननांगों में दर्द आदि में लाभदयक औषधि है |

  3. महिलाओं के लिए यह एक सुप्रशिद्ध एवं चमत्कारिक औषधि है | महिला के सम्पूर्ण कायाकल्प के लिए इसका सेवन किया जा सकता है |

  4. इसके सेवन से महिला के हार्मोन्स की समस्या ठीक होती है जिससे उन्हें स्वास्थ्य लाभ मिलता है |

  5. अशोकारिष्ट रक्तप्रदर की समस्या को भी खत्म करती है |dcgyan

  6. महिलाओं में होने वाली सफ़ेद पानी (श्वेत प्रदर) की समस्या में यह चमत्कारिक परिणाम देती है |

  7. गर्भास्य के लिए भी उत्तम टॉनिक है |

  8. सभी प्रकार के योनिरोगों में यह लाभ देती है |

  9. रक्त पित एवं पाचन की समस्या से भी महिला को उभारने का काम करती है |

  10. यह उत्तम पाचक गुणों से युक्त होती है अत: कब्ज की समस्या भी महिलाओं को नहीं होती |

  11. प्रमेह, अरोचक एवं शोथ में भी अशोकारिष्ट के सेवन से लाभ मिलता है |

  12. मन्दाग्नि को ठीक करके भूख बढ़ाती है |

  13. अर्श (पाइल्स) में भी उपयोगी |

  14. उचित सेवन से महिला प्रजनन अंगो को शक्ति मिलती है एवं उनके सभी दोष दूर होते है |
    Advertisements

श्रोणि की सूजन की बीमारियां:-  अशोकारिष्ट(Ashokarishta) श्रोणि की सूजन संबंधी बीमारियों का प्रबंधन करने में मदद करता है। इसमें मौजूद जड़ी-बूटियां एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव पैदा करती हैं जो गर्भाशय, अंडाशय और अन्य प्रजनन अंगों को नुकसान से बचाने में मदद करती है।

1.दर्दनाक पीरियड्स में मदद करता है :- जब अन्य जड़ी बूटियों के साथ मिलाया जाता है तो यह गर्भाशय के कामों में सुधार करता है और गर्भाशय को ताकत देने वाले संकुचन को नियंत्रित करता है। यह प्रीमेंस्ट्रुअल सिरदर्द, कमर दर्द और मतली को भी कम करता है। इसलिए यह दर्दनाक पीरियड्स के दौरान अशोकारिष्ट लाभ करता है।

2.पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम :- इस मामले में अशोकारिष्ट(Ashokarishta) का उपयोग बहुत अलग है, इसलिए इसका उपयोग सावधानी से किया जाना चाहिए।

3.ऑस्टियोपोरोसिस :- मेनोपाज के दौरान अशोकारिष्ट(Ashokarishta) लाभ करता है। यह हड्डियों के खनिज के नुकसान को रोकने में मदद करता है जो मेनोपाज के दौरान शुरू होता है।Weight, Gain ,Morning, Habits,सुबह ,आदतें ,वजन,

4.स्वास्थ्य में सुधार करे :- अशोकारिष्ट(Ashokarishta) स्वास्थ्य की स्थिति को सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अवयवों में आवश्यक तत्व होते हैं जैसे अजाजी, गुड्डा, चंदना, अमरस्थी आदि आपको सकारात्मक स्वास्थ्य प्राप्त करने में मदद करते हैं।

5.फोस्टर स्टैमिना और थकान को खत्म करता है :इसके 100% आयुर्वेदिक फार्मूला की अच्छाई महिलाओं में सहनशक्ति के स्तर को उत्तेजित करती है।dcgyan

6.पाचन तंत्र को बेहतर बनाता है :- अशोकारिष्ट(Ashokarishta) पाचन तंत्र को बढ़ाने में सहायक है। यह मेटाबोलिज्म में सुधार करता है और भूख की कमी से लड़ने में योगदान देता है।

अशोकारिष्ट सेवन कैसे करना है आइए देखते हैं : –

सेवन की मात्रा (ashokarishta dosage)– 10 से 30 मिली. सुबह एवं शाम भोजन के पश्चात समान मात्रा में जल मिलाकर या चिकित्सक के परामर्शानुसार सेवन करना चाहिए | इसे आप 3 महीने तक कंटिन्यू सेवन कर सकते हैं ,इसका कोई भी साइड इफेक्ट नहीं है.

अशोकारिष्ट की कीमत :- बैद्यनाथ अशोकारिष्ट स्पेशल 450 ml  की कीमत ₹180 है. यह आपको किसी भी मेडिकल स्टोर में मिल जाएगा.

आप बैद्यनाथ ,डावर ,पतंजलि ,आदि फार्मेसियों का अशोकारिष्ट ले सकते हैं |
Advertisements

अशोकारिष्ट के साइड इफेक्ट्स :-

  1. यह अशोकारिष्ट(Ashokarishta) में अल्कोहल और शुगर की उपस्थिति के कारण होता है। एसिडिटी और सीने की जलन का कारण हो सकता है

  2. यदि गलत तरीके से इसे सेवन किया जाता है तो यह पीरियड्स में लंबे समय तक देरी हो सकती है।

  3. यह पीरियड्स के समय मासिक धर्म के रक्त प्रवाह को कम कर सकता है।

  4. अशोकरिष्ट बंद हुई फैलोपियन ट्यूब के इलाज के लिए उपयोगी नहीं है।

  5. इसमें गुड़ होता है इसलिए यह मधुमेह के रोगी के स्वास्थ्य को खतरे में डालता है|

  6. यह ज्यादा गर्मी, निर्जलीकरण और बेहोशी का कारण बनता है जो गर्भावस्था के दौरान गंभीर परिणाम होता है। गर्भावस्था के दौरान नहीं लिया जाना चाहिए

  7. लंबे समय तक मासिक चक्र के अनियमित होने की स्थिति में इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

अशोकारिष्ट के घटक द्रव्य :-  अशोकछाल ,गुड़ ,धायके फूल , मोथा ,त्रिफला, शुंठी ,काला जीरा, नागरमोथा, सोंठ, दारुहल्दी, कमल, हरड़, बहेड़ा, आँवला, आम की गुठली की गिरी, जीरा, अडूसा की छाल, रक्त चन्दन इत्यादि|
Advertisements

Tags:-

 अशोकारिष्ट के फायदे,अशोकारिष्ट प्राइस,अशोकारिष्ट की जानकारी,अशोकारिष्ट बैद्यनाथ सिरप,ashokarishta and pregnancy,ashokarishta benefits,ashokarishta benefits in hindi,ashokarishta can help for pregnancy ,ashokarishta dabur,ashokarishta dosage ,ashokarishta expiry date ,ashokarishta for delayed periods ,ashokarishta for pcos ,ashokarishta hindi ,ashokarishta in hindi ,ashokarishta jankari, zandu ashokarishta, jiva ashokarishta, jamna ashokarishta, ashokarishta ke fayde ,ashokarishta लाभ ,ashokarishta online ,ashokarishta syrup ,ashokarishta uses, ashokarishta zandu,अशोकारिष्ट 2020,ashokarishta 450ml, how ashokarishta works, अशोकारिष्ट इन हिंदी

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *