आरती श्री रामचंद्र जी की – aarti shri ramchandra ji ki lyrics,

आरती श्री रामचन्द्रजी- aarti shri ramchandra ji ki lyrics,

आरती श्री रामचन्द्रजी- aarti shri ramchandra ji ki lyrics,

 

आरती श्री रामचंद्र जी की

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन, हरण भवभय दारुणम्।

नव कंज लोचन, कंज मुख कर कंज पद कंजारुणम्॥

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन

 

कन्दर्प अगणित अमित छवि, नव नील नीरद सुन्दरम्।

पट पीत मानहुं तड़ित रूचि-शुचि नौमि जनक सुतावरम्॥

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन

 

भजु दीनबंधु दिनेश दानव दैत्य वंश निकन्दनम्।

रघुनन्द आनन्द कन्द कौशल चन्द्र दशरथ नन्द्नम्॥

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन

 

सिर मुकुट कुंडल तिलक चारू उदारु अंग विभूषणम्।

आजानुभुज शर चाप-धर, संग्राम जित खरदूषणम्॥

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन

इति वदति तुलसीदास, शंकर शेष मुनि मन रंजनम्।

मम ह्रदय कंज निवास कुरु, कामादि खल दल गंजनम्॥

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन

 

मन जाहि राचेऊ मिलहि सो वर सहज सुन्दर सांवरो।

करुणा निधान सुजान शील सनेह जानत रावरो॥

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन

 

एहि भांति गौरी असीस सुन सिय हित हिय हरषित अली।

तुलसी भवानिहि पूजी पुनि-पुनि मुदित मन मन्दिर चली॥

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन

Tags:

आरती श्री रामचन्द्रजी की,aarti shri ramchandra ji ki,aarti shri ramchandra kripalu bhajman,aarti shri ramchandra kripalu bhajman lyrics in hindi,aarti shri ramchandra kripalu bhajman mp3aarti shri ramchandra ji ki lyrics,aarti shri ramchandra download,aarti shri ramchandra,aarti shri ramchandra kripalu bhajman in hindi,aarti shri ramchandra ji ki mp3,आरती श्री रामचंद्र जी की,
Share this:
0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments