क्या प्रेगनेंसी में तिल खाना चाहिए ? – Pregnancy Me Til Khana Chahiye Ya Nahi

क्या प्रेगनेंसी में तिल खाना चाहिए ? – Pregnancy Me Til Khana Chahiye Ya Nahi

गर्भावस्था के दौरान, गर्भवती अपना पूरा ख्याल रखती है, ताकि आने वाले नन्हे मेहमान को कोई स्वास्थ्य तकलीफ न हो। इस दौरान, खान-पान पर विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है। फल-सब्जियों से अलग कई अन्य पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन भी जरूरी माना जाता है, जिसमें एक तिल भी आता है। हालांकि, गर्भावस्था के दौरान तिल का सेवन करना चाहिए कि नहीं, एक बड़ा सवाल हो सकता है।

Video 

आइए, जान लेते हैं कि तिल गर्भावस्था में कितना सुरक्षित है।

क्या गर्भावस्था में तिल खाना चाहिए ? जी हां, प्रेगनेंसी में सीमित मात्रा में तिल का सेवन किया जा सकता है। डॉक्टरों के अनुसार, तिल का सेवन गर्भवती महिला के स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हैं। इसमें कई तरह के पोषक तत्व होते हैं, जिनमें आयरन, कैल्शियम, अमीनो एसिड, प्रोटीन, ऑक्सालिक एसिड, विटामिन-बी, सी और ई प्रमुख हैं। गर्भावस्था के दौरान इन पोषक तत्वों की खास जरूरत होती है । हालांकि, तिल की तासीर गर्म होती है, जिस कारण इससे गर्भपात का जोखिम हो सकता है,
Advertisements

आइए जानते हैं कि प्रेगनेंसी में तिल की कितनी मात्रा का सेवन करना चाहिए?

प्रेगनेंसी के दौरान प्रतिदिन 2 से 3 चम्मच या 20 से30 ग्राम तिल या तिल से बने अन्य खाद्य पदार्थ का सेवन किया जा सकता है। यह सामान्य मात्रा है, जिससे शरीर में फाइबर की पूर्ति हो सकती है। यह आपके और भ्रूण के लिए सुरक्षित है। गर्भावस्था में मौसम के अनुसार इसकी उचित मात्रा का सेवन करने से पहले  एक बार डॉक्टर से सलाह अवश्य करलें।

आइए, जान लेते हैं कि प्रेगनेंसी में तिल कब खाना चाहिए।

प्रेगनेंसी में शुरू से छः माह तक मां को विटामिन ,आयरन व मिनरल, की अधिक आवश्यकता होती है। इस समय एनीमिया व अन्य रोग होने का खतरा ज्यादा बना रहता है। इसलिए, विटामिन ,आयरन व मिनरल की आवश्यकता को देखते हुए गर्भवती महिलाएं तिल का सेवन शुरू कर सकती हैं।
Advertisements

www.dcgyan.com के इस लेख में जानिए प्रेगनेंसी में तिल खाने के क्या-क्या फायदे हैं।

  1. शिशु के मस्तिष्क विकास के लिए : गर्भावस्था के दौरान तिलका सेवन आपके शिशु के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, तिल में कार्बोहाइड्रेट की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। कार्बोहाइड्रेट की पूर्ति गर्भ में पल रहे शिशु के विकास के लिए आवश्यक मानी जाती है ।

  2. कब्ज से राहत के लिए : गर्भावस्था के समय कब्ज की समस्या होना आम हो सकती है। ऐसे में तिल का सेवन करने से इससे निजात पाया जा सकता है। कब्ज को दूर करने के लिए फाइबर अहम भूमिका निभा सकता है और तिल में डाइटरी फाइबर पाया जाता है। इसलिए, कब्ज की अवस्था में तिल लाभदायक हो सकता है।

  3. मजबूत हड्डियां के लिए: भ्रूण की हड्डियों के निर्माण और मजबूती के लिए लिए कैल्शियम की आवश्यकता होती है। ऐसे में तिल के सेवन से गर्भवती को पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम मिल सकता है,जो भ्रूण और गर्भवती दोनों के लिए फायदेमंद हो सकता है।dcgyan

  4. एनीमिया से राहत के लिए: गर्भावस्था के समय कई बार महिलाओं को एनीमिया की समस्या हो जाती है । ऐसे में तिल का उपयोग करने से इस समस्या से राहत पाई जा सकती है, क्योंकि इसमें आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाने का काम कर सकता है।dcgyan

  5. एनर्जी को बढ़ाने के लिए : प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली कमजोरी को कम करने के लिए तिल का सेवन उपयोगी सिद्ध हो सकता है, क्योंकि इसमें ऊर्जा की भरपूर मात्रा पाई जाती है। यह कमजोरी को कम करने का काम कर सकता है।

  6. तिल का तेल :- प्रेगनेंसी में तिल का तेल इस्तेमाल किया जा सकता है। तिल के तेल में मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड और पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड होता है, जो गर्भवती और भ्रूण दोनों के लिए फायदेमंद हो सकता है।
    Advertisements

आइए,जान लेते हैं कि प्रेगनेंसी में तिल खाने के क्या-क्या नुकसान है।

तिल को अधिक मात्रा में खाने से फायदे की जगह नुकसान भी हो सकता है। यह अवस्था गर्भवती और भ्रूण दोनों के लिए जोखिम की स्थिति पैदा कर सकती है,

  • तिल को एलर्जिक खाद्य पदार्थों की श्रेणी में गिना जाता है, इसलिए कुछ महिलाओं को तिल के सेवन से एलर्जी हो सकती है।

  • इसमें में डाइटरी फाइबर भरपूर मात्रा में होता है। अधिक मात्रा में फाइबर लेने से दस्त, गैस व पेट में ऐंठन जैसी समस्या हो सकती है।

Advertisements

आइए,जान लेते हैं कि गर्भावस्था के दौरान आहार में तिल कैसे शामिल कर सकते हैं?

  • भोजन के बाद तिल के लड्डू, गजक और चिक्की को डेजर्ट के रूप में ले सकते हैं।

  • तिल से बने तेल को भोजन बनाने में इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • भुनी हुए तिल को कुछ सब्जियों में गार्निश करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

  • तिल की चटनी बनाकर चावल व अन्य व्यंजन के साथ खा सकते हैं।

  • धनिया या पुदीने की चटनी में भी तिल मिलाकर सेवन कर सकते हैं।

Advertisements

  लेख देखने के लिए आपका धन्यवाद , आपको यह जानकारी पसन्द आयी है  तो लाइक करें और अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें |

 

Tags

प्रेगनेंसी के दौरान तिल खाने से मां और शिशु को फायदे,Til benefits in pregnancy,प्रेगनेंसी के दौरान तिल खाने से फायदे,pregnancy me til khane ke fayde,pregnancy me til khana chahiye,तिल खाने से हो सकता है गर्भपात,sesame seeds during pregnancy,til during pregnancy,गर्भावस्था में तिल, Eating Sesame Seeds During Pregnancy in Hindi,प्रेगनेंसी में तिल के फायदे,pregnancy and sesame seeds,गर्भावस्था में तिल का सेवन,प्रेगनेंसी में तिल खाने के फायदे,pregnancy and sesame seeds, तिल के सेवन के फायदे,

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *