खांसी और कफ  के  कारण व भोजन और परहेज और सावधानी

खांसी और कफ,कारण,भोजन,परहेज,सावधानी, खांसी,cough,

खांसी और कफ  के  कारण व भोजन और परहेज और सावधानी

खांसी(cough) होने के अनेक कारण हैं-

  • खांसी वात, पित्त और कफ बिगड़ने के कारण होती है।

  • घी-तेल से बने खाद्य पदार्थों के सेवन के तुरन्त बाद पानी पी लेने से खांसी की उत्पत्ति होती है। छोटे बच्चे स्कूल के आस-पास मिलने वाले चूरन, चाट-चटनी व खट्टी-मीठी दूषित चीजें खाते हैं जिससे खांसी रोग हो जाता है।

  • मूंगफली, अखरोट, बादाम, चिलगोजे व पिस्ता आदि खाने के तुरन्त बाद पानी पीने से खांसी होती है। ठंड़े मौसम में ठंड़ी वायु के प्रकोप व ठंड़ी वस्तुओं के सेवन से खांसी उत्पन्न होती है। क्षय रोग व सांस के रोग (अस्थमा) में भी खांसी उत्पन्न होती है।               

  • सर्दी के मौसम में कोल्ड ड्रिंक पीने से खांसी होती है। ठंड़े वातावरण में अधिक घूमने-फिरने, फर्श पर नंगे पांव चलने, बारिश में भीग जाने, गीले कपड़े पहनने आदि कारणों से सर्दी-जुकाम के साथ खांसी उत्पन्न होती है।

  • क्षय रोग में रोगी को देर तक खांसने के बाद थोड़ा सा बलगम निकलने पर आराम मिलता है। आंत्रिक ज्वर (टायफाइड), खसरा, इंफ्लुएंजा, निमोनिया, ब्रोंकाइटिस (श्वासनली की सूजन), फुफ्फुसावरण शोथ (प्लूरिसी) आदि रोगों में भी खांसी उत्पन्न होती है।

भोजन और परहेज :

खांसी(khansi) में पसीना आना अच्छा होता है। नियम से एक ही बार भोजन करना, जौ की रोटी, गेहूं की रोटी, शालि चावल, पुराने चावल का भात, मूंग और कुल्थी की दाल, बिना छिल्के की उड़द की दाल, परवल, तरोई, टिण्डा बैंगन, सहजना, बथुआ, नरम मूली, केला, खरबूजा, गाय या बकरी का दूध, प्याज, लहसुन, बिजौरा, पुराना घी, मलाई, कैथ की चटनी, शहद, धान की खील, कालानमक, सफेद जीरा, कालीमिर्च, अदरक, छोटी इलायची, गर्म करके खूब ठंड़ा किया हुआ साफ पानी, आदि खांसी के रोगियों के लिए लाभकारी है।       खांसी और कफ,कारण,भोजन,परहेज,सावधानी, खांसी,cough,

खांसी में नस्य , आग के सामने रहना, धुएं में रहना, धूप में चलना, मैथुन करना, दस्त रोग, कब्ज, सीने में जलन पैदा करने वाली वस्तुओं का सेवन करना, बाजरा, चना आदि रूखे अन्न खाना, विरुद्ध भोजन करना, मछली खाना, मल मूत्र आदि के वेग को रोकना, रात को जागना, व्यायाम करना, अधिक परिश्रम, फल या घी खाकर पानी पीना तथा अरबी, आलू, लालमिर्च, कन्द, सरसो, पोई, टमाटर, मूली, गाजर, पालक, शलजम, लौकी, गोभी का साग आदि का सेवन करना हानिकारक होता है।

सावधानी :

खांसी के रोगी को प्रतिदिन भोजन करने के एक घंटे बाद पानी पीने की आदत डालनी चाहिए। इससे खांसी से बचाव के साथ पाचनशक्ति मजबूत होती है। खांसी का वेग नहीं रोकना चाहिए क्योंकि इससे विभिन्न रोग हो सकते हैं- दमा का रोग, हृदय रोग, हिचकी, अरुचि, नेत्र रोग आदि।

Tags:

बलगम वाली खांसी का इलाज,पतंजलि खांसी की दवा,एलर्जी खांसी,बच्चों की खांसी,कुत्ता खांसी का इलाज,खांसी का सिरप,बलगम क्यों बनता है,कफ का कारण,बलगम के प्रकार,छाती में कफ जमने का इलाज,कफ नाशक,सूखी खांसी का बढ़ियां घरेलू उपचार,खांसी की अंग्रेजी दवा,लगातार खांसी आना,खांसी की अचूक दवा,खांसी का सिरप का नाम,पतंजलि कफ सिरप,खांसी में क्या नहीं खाना चाहिए,खांसी से तुरंत आराम,रिमूव कुघ फ्रॉम चेस्ट,काली खांसी का इलाज,कफ वाली खांसी की दवा,सोते समय खांसी के कारण,बलगम कैसे बनता है,कफ क्यों बनता है,खाँसी,कफ बनने का कारण,निरंतर खांसी का कारण क्या है,रात में चलने वाली खांसी,कफ़,
Share this:
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments