गर्भपात के बाद गर्भधारण का सही समय || When should I conceive after abortion?

When should I conceive after abortion? गर्भपात के बाद गर्भधारण का सही समय

विवाहित जीवन शुरु करने के बाद घर में नन्हा मेहमान ख़ुशियाँ लेकर आता है। लेकिन कुछ नवविवाहितों के लिए अनचाहा गर्भ (conceive) तनाव का कारण हो सकता है। यूँ तो गर्भपात(abortion) एक ग़लत क़दम माना जाता है, किसी भी वजह से गर्भपात(abortion) होने या कराने के बाद कोई भी महिला जीवन में दुबारा गर्भपात नहीं करवाना चाहेगी। सामान्य परिस्थितियों और सही समय पर कराया गया गर्भपात बांझपन का कारण नहीं बनता है। गर्भपात कराने की अपेक्षा गर्भधारण करने से बचना कहीं अधिक श्रेष्ठ होता है। इसके लिए विवाहित दम्पत्ति डॉक्टर की सलाह से गर्भ निधोरक उपाय अपना सकते हैं।

Video 

 क्या आप भी उनमें से एक हैं जो गर्भपात के बाद गर्भधारण कब करें, इस बारे में जानकारी चाहते हैं? बहुत से लोग इस बात को लेकर भ्रमित रहते हैं। आइए इसके पीछे के सच को जानें।how to stay healthy after 50

1.कितना समय दें (How much time):-  गर्भपात के बाद दोबारा कब गर्भ धारण करना है, यह पूरी तरह निजी फैसला है. पर अगर आप गर्भपात के बाद दोबारा जल्दी बेबी प्लान करना चाहते हैं तो कम से कम तीन महीने का इंतज़ार करना चाहिए. । इतने समय में वे अपने शरीर में क्षय हुए फ़ोलिक एसिड और शरीरिक शक्ति को बढ़ा सकती हैं। इस समय में गर्भपात के बाद बनें थाइराइड व इंसुलिन की जाँच भी की जा सकती है। आपके लिए यह जानना आवश्यक है कि महिला का शरीर गर्भपात के एक हफ़्ते बाद ही अंडोत्सर्ग करने लगता है। जिसके कारण गर्भ निरोधक उपाय न करने से गर्भधारण की सम्भावना बनी रहती है। डॉक्टरी सलाह के अनुसार शरीर में पहले सी शक्ति और तंदुरुस्ती आने में कुछ महीनों का टाइम लग सकता है। आवश्यक समझें तो गर्भपात के बाद गर्भधारण डॉक्टरी सलाह लेकर ही करें।  लगभग 80% गर्भपात के लिए गुणसूत्र विपथन उत्तरदायी होता है और शुक्राणु को परिवर्तित होने में ढाई महीने का टाइम लगता है। इसलिए आप समझदारी दिखाएँ और सही समय की प्रतीक्षा करें।
Advertisements

2.क्या संकट हैं?  ( What are the problems? ) :- कुछ कहा नहीं जा सकता है कि पहले गर्भपात के बाद गर्भवती होने के कुछ ही हफ़्तों में दूसरा गर्भपात सुरक्षित होगा या नहीं। लेकिन यह बात तो पक्की है कि शरीर में पोषक तत्त्वों की कमी हो ही जाती है। गर्भपात के कुछ हफ़्तों बाद ही गर्भ धारण करना न समझी साबित हो सकता है। गर्भपात के बाद शरीर में हुई कमियों को सुधारने और सेहत को दुरुस्त करने के लिए पूरा समय देना आवश्यक है।Signs of Labor प्रसव के संकेत (लक्षण और उपाय)

3.सही समय की जाँच (Check the right time):- आपके लिए यह जानकारी नई हो सकती है कि गर्भपात के पश्चात् भी कुछ महीनों तक आपका प्रेग्नेंसी टेस्ट पॉज़ीटिव आ सकता है। जिसका अर्थ है कि आपकी प्रेग्नेंसी टेस्ट किट पर गुलाबी रंग की दो लाइनें स्पष्ट दिखेंगी। ऐसा गर्भावस्था के हार्मोन बढ़ जाने के कारण होता है। अगर आपको दुबारा गर्भधारण करना है तो आपको तब तक इंतिज़ार करना चाहिए, जब तक आपका प्रेगनेंसी टेस्ट निगेटिव न आ जाए। जब आपकी प्रेगनेंसी टेस्ट में गुलाबी लाइनें हल्की हो जाएँ तो आपको समझना चाहिए कि दूसरी प्रेगनेंसी के लिए सही समय आ गया है। इस लेख को देखने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यबाद ,

Advertisements

Tags

मिसकैरेज का प्रभाव गर्भधारण,गर्भपात के बाद क्या करे,गर्भपात के तुरंत बाद गर्भधारण,गर्भपात के बाद सावधानियां,गर्भपात के बाद गर्भधारण,गर्भपात ,garbhpat ke baad pregnancy,abortion ke baad pregnancy,pregnancy after miscarriage in hindi,getting pregnant after miscarriage in hindi,pregnant in hindi jankari,miscarriage ke baad pregnancy,गर्भपात के बाद गर्भवती, गर्भपात के बाद गर्भधारण कब करें,Effects of Miscarriage in hindi, pregnant in hindi jankari, miscarriage ke baad pregnancy,charak ayurveda,

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *