गर्भावस्था में चुकंदर क्यों खाना ? Why eat Beetroot in pregnancy?

 गर्भावस्था में चुकंदर क्यों खाना ? Why eat Beetroot in pregnancy?

गर्भावस्था में चुकंदर खाना आखिर क्यों हैं फायदेमंद?

Video 

गर्भावस्था में चुकंदर खाने के फायदे

गर्भावस्था में खान-पान पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है विशेषकर शुरू के तीन महीने में , गर्भावस्था में महिलाओं को तरह-तरह की चीजें खाने की इच्छा होती है. गर्भावस्था के दौरान महिला को कई तरह के खाद्य पदार्थों के सेवन की सलाह दी जाती है, एक पौष्टिक आहार न सिर्फ गर्भवती के स्वास्थ्य के लिए बेहतर होता है, बल्कि शिशु के विकास में भी इसकी खास भूमिका होती है। यही कारण है कि गर्भवती को भरपूर मात्रा में हरी सब्जियों और फलों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। वहीं, कुछ चीजें ऐसी हैं, जिन्हें लेकर दुविधा है कि प्रेग्नेंसी में इन्हें खाना चाहिए या नहीं। इन्हीं में से एक है चुकंदर। यूं तो चुकंदर में पौष्टिक तत्वों की भरमार है, लेकिन प्रेग्नेंसी में चुकंदर सुरक्षित है या नहीं, इसे लेकर कई महिलाओं के मन में सवाल बना रहता है। आप के मन में कुछ सवाल हैं जैसे-

 क्या गर्भवस्था में चुकंदर खाना सुरक्षित है?

प्रेगनेंसी में चुकंदर और चुकंदर जूस के क्या  फायदे है ?

गर्भवस्था के दौरान एक दिन में कितने चुकंदर खाना उचित है?

प्रेगनेंसी में एक दिन में कितने गिलास चुकंदर का जूस पीना चाहिए?

प्रेगनेंसी में चुकंदरऔर चुकंदर के जूस का सेवन कब करना चाहिए?

क्या प्रेगनेंसी में चुकंदर खाने के कुछ नुकसान हैं?

गर्भवस्था में चुकंदर खाते वक्त  किन बातों का ध्यान रखना चाहिए

आहार में चुकंदर को कैसे शामिल करैं ?

तो इस लेख में आपको इन सभी संकाओ का समाधान हो जायेगा

 चलिए, सबसे पहले यह जान लेते हैं कि क्या गर्भावस्था में चुकंदर खाना सुरक्षित है या नहीं?

हां, गर्भावस्था के दौरान चुकंदर खा सकते हैं, । ध्यान रहे कि इनका सेवन सीमित मात्रा में किया जाए।

garbhaavastha mein Chukandar kyon khaana
Advertisements

आइए, अब जानते हैं कि प्रेगनेंसी में चुकंदर खाने और चुकंदर जूस के बेमिसाल फायदे

  1. प्राकृतिक रक्त शोधक: चुकंदर में रक्त को शुद्ध करने की क्षमता होती है। इससे यह भ्रूण में बीमारियों और संक्रमण के जोखिम को रोकता है। वहीं, चुकंदर के रस का सेवन आपकी शारीरिक सहनशक्ति को बढ़ाता है और डिलीवरी सहन करने में मदद करता है।aenimia

  2. एनर्जी के लिए : गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को उसके भ्रूण, प्लेसेंटा और टिश्यू के लिए पर्याप्त एनर्जी की जरूरत होती है। अगर पर्याप्त ऊर्जा प्राप्त न हो, तो इससे गर्भवती और उसके होने वाले शिशु को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं । ऐसे में पर्याप्त ऊर्जा की पूर्ति के लिए चुकंदर जूस का सेवन किया जा सकता है, क्योंकि इसमें कई तरह के पौष्टिक तत्व मौजूद होते हैं, जो गर्भवती और उनके होने वाले शिशु के लिए फायदेमंद हो सकते हैं।dcgyan

  3. ऑस्टियोपोरोसिस को रोकता है : गर्भवती महिलाओं को ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा होता है। वहीं, चुकंदर में सिलिका होता है, जो शरीर को कैल्शियम का उपयोग करने में सक्षम बनाता है। इससे दांत और हड्डियां कमजोर होने से बच जाती हैं और ऑस्टियोपोरोसिस का जोखिम कम हो जाता है ।dcgyan

  4. मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करे : चुकंदर पोटैशियम का बेहतरीन स्रोत है। इसका सेवन इलेक्ट्रोलाइट्स को संतुलित करता है और गर्भावस्था के दौरान चयापचय को काफी हद तक नियंत्रित करता है। इसके अलावा, यह गर्भवती महिलाओं में रक्तचाप के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है। 
    Advertisements

  5. विटामिन सी की पूर्ति के लिए :विटामिन सी होने के कारण यह मां के इम्यून सिस्टम यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाने का काम करता है। इसके सेवन से गर्भवती महिला और भ्रूण दोनों में ही बीमारियों का जोखिम कम हो सकता है और वो सेहतमंद हो सकते हैं । dcgyan 

  6. जोड़ों में दर्द और सूजन से बचाए : चुकंदर में बीटालैन होता है, जो एंटी-इंफ्लेमेटरी एजेंट के रूप में काम करता है। गर्भावस्था को दौरान चुकंदर का सेवन जोड़ों में दर्द और सूजन को कम कर सकता है ।

  7. रक्त शर्करा को नियंत्रित करे : चुकंदर में कम मात्रा में ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है, जो गर्भावस्था के दौरान रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।madhumeh,diabetes,

  8. भ्रूण के विकास में मदद करे : चुकंदर विटामिन-ए और विटामिन-ई से भरपूर होता है। गर्भावस्था के दौरान चुकंदर का रस पीने से भ्रूण के विकास में मदद मिलती है।

  9. पाचन में सुधार: गर्भावस्था के दौरान फाइबर युक्त चुकंदर खाने से आपके पाचन में सुधार होता है, जिससे आपका पेट ठीक रहता है और कब्ज की समस्या दूर होती है। 
    Advertisements

  10. फोलिक एसिड के लिए :गर्भवती महिला के लिए फोलिक एसिड जरूरी होता है, क्योंकि फोलिक एसिड मां के स्वास्थ्य और भ्रूण के विकास में सहायक भूमिका निभाता है। ये रेड ब्लड सेल्स के निर्माण के लिए उपयोगी होता है. साथ ही ये नई कोशिकाओं (सेल्स) के निर्माण को भी प्रोत्साहित करता है|  ऐसे में अगर पर्याप्त मात्रा में फोलिक एसिड चाहिए, तो चुकंदर जूस का सेवन लाभकारी हो सकता है|

  11. कैल्शियम की पूर्ति के लिए :गर्भावस्था के दौरान कैल्शियम गर्भवती के लिए जरूरी है। इससे गर्भवती महिला और उसके होने वाले शिशु का कई तरह के बीमारियों से बचाव हो सकता है। साथ ही कैल्शियम से हड्डियों की भी समस्या का जोखिम कम हो सकता है । ऐसे में गर्भावस्था में कैल्शियम की पूर्ति के लिए चुकंदर जूस का सेवन किया जा सकता है, क्योंकि इसमें कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा मौजूद होती है ।

  12. तनाव दूर करने में सहायक : चुकंदर खाने से तनाव दूर होता है. दरअसल इसमें पोटैशियम की पर्याप्त मात्रा होती है जिसके चलते ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है. ऐसे में गर्भवती महिलाओं को तनाव से दूर रखने के लिए उन्हें चुकंदर खाने की सलाह दी जाती है |

  13. आयरन की पूर्ति के लिए :आयरन की जरूरत को पूरा करने के लिए भी चुकंदर जूस के फायदे देखे जा सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान आयरन की आवश्यकता बढ़ जाती है, क्योंकि भ्रूण को सही विकास के लिए आयरन की जरूरत होती है, जो उसे मां से प्राप्त होती है । इसलिए, गर्भवती महिला पर्याप्त आयरन पाने के लिए चुकंदर जूस का सेवन कर सकती है, क्योंकि चुकंदर में आयरन भरपूर मौजूद होता है ।aenimia

  14. एनीमिया को ठीक करने में : एनीमिया एक ऐसी मेडिकल कंडीशन है, जिसमें आपका खून शरीर में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा नहीं पहुंचा पाता है । चुकंदर आयरन से भरपूर होता है और रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाता है। इसलिए, गर्भावस्था के दौरान चुकंदर खाने से एनीमिया का खतरा कम हो सकता है ।

  15. जिंक की पूर्ति के लिए : चुकंदर जूस में जिंक की भी मात्रा पाई जाती है। गर्भावस्था के दौरान जिंक भी गर्भवती महिला और उसके होने वाले शिशु को स्वस्थ रहने में अहम भूमिका निभाता है।
    Advertisements

  16. इम्यून सिस्टम को बढ़ाने के लिए : गर्भावस्था के दौरान चुकंदरका सेवन आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकता है, क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है, जो रोग-प्रतिरोधक क्षमता बनाए रखने के लिए जरूरी है ।निमोनिया क्या है? लक्षण, और उपाय, |   Pneumonia

  17. कब्ज की समस्या को दूर करने के लिए : चुकंदर में पर्याप्त मात्रा में डाइटरी फाइबर्स पाए जाते हैं, जिससे कब्ज की समस्या नहीं होती है. गर्भावस्था में कब्ज की समस्या हो जाना एक आम समस्या है.dast

  18. हृदय स्वास्थ्य के लिए:- हृदय को ठीक रखने के लिए भी चुकंदर का जवाब नहीं, क्योंकि शरीर का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा हृदय है, जिसका स्वस्थ रहना हर हाल में जरूरी है। चुकंदर का सेवन हृदय को स्वस्थ रखने का काम करता है। इसमें मौजूद नाइट्रेट तत्व रक्तचाप को सामान्य कर हृदय रोगों और हृदयाघात से बचाता है।Heart Attack

  19. कैंसर से बचाव के लिए:- किसी भी प्रकार के कैंसर से लाभ लेने के लिए भी चुकंदर का सेवन बहुत ही फ़ायदेमंद होता है। चुकंदर एक गुणकारी खाद्य पदार्थ होता है, जो आपको कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचा सकता है। अध्ययन के अनुसार चुकंदर फैफडो और स्किन कैंसर को शरीर में पनपने से बचाव करता है। गाजर और चुकंदर का जूस एक साथ मिलाकर पीने से शरीर में ब्लड कैंसर की आशंका को खत्म किया जा सकता है।dcgyan

  20. बालों के लिए :- गर्भवती महिला को किसी भी प्रकार की बालों कि समस्या है, तो चुकंदर का उपयोग करके इस समस्या से निजात पाई जा सकती है। चुकंदर के नियमित सेवन से इसे ठीक किया जा सकता हैं। इसके अलावा चुकंदर का रस बालों में डाइ की तरह प्रयोग किया जा सकता है। इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता।

Advertisements

आइए, अब जानते हैं कि एक दिन में गर्भवती महिला को कितने चुकंदर का सेवन करना चाहिए

गर्भास्वस्था के दौरान आप एक दिन में एकचौथाई , यानिकि वनफोर्थ  चुकंदर का सेवन कर सकती हैं । सप्ताह भर में सिर्फ एक कप चुकंदर खाना सुरक्षित माना गया है ।

आइए, अब जानते हैं कि एक दिन में कितने गिलास चुकंदरका जूस पीना चाहिए।

गर्भास्वस्था के दौरान आप सप्ताह भर में एक चुकंदर का जूस, यानिकि करीब 150 ml  मिली लीटर चुकंदर का जूस का सेवन कर सकती हैं । इस बारे में आप एक बार डॉक्टर से भी राय ले सकती हैं, क्योंकि हर किसी की गर्भावस्था एक जैसी नहीं होती है। इसी कारण से सभी की खाने की मात्रा की जरूरत अलग होती हैं।

आइए, अब जानते हैं कि प्रेगनेंसी में चुकंदर और चुकंदर जूस का सेवन कब करना चाहिए।

गर्भावस्था की पहली तिमाही में चुकंदर खाने को सबसे बेहतर समय माना गया है, क्योंकि इसमें फोलिक एसिड होता है, जो बच्चे के दिमागी विकास और रीढ़ की हड्डी के लिए जरूरी है । गर्भवती महिला  को दिनभर में 400 से 800 एमजी फोलिक एसिड की जरूरत होती है , परन्तु हर महिला का शरीर और उनकी गर्भावस्था एक समान नहीं होती है, ऐसे में इस बारे में आप एक बार अपने डॉक्टर की राय जरूर लें।

Advertisements

आइए, अब जानते हैं कि प्रेगनेंसी में चुकंदर  खाने से क्या नुकसान हो सकते हैं।

गर्भावस्था के दौरान चुकंदर खाने के कई लाभ हो सकते हैं, लेकिन कुछ स्थितियों में इसके सेवन में सावधानी बरतनी भी जरूरी है। किसी-किसी मामले में डॉक्टर प्रेग्नेंसी के दौरान चुकंदर न खाने की सलाह दे सकते हैं।

  1. चुकंदर में बीटाइन होता है, जो मतली, उल्टी, दस्त और जठरांत्र (गैस्ट्रोएन्टराइटिस) जैसी समस्या पैदा कर सकता है ।

  2. इसमें मौजूद ऑक्सालेट की उच्च मात्रा गुर्दे की पथरी का कारण बनती है ।

  3. चुकंदर में मौजूद नाइट्रेट्स थकान को और बढ़ा सकता है ।

  4. इसके ज्यादा सेवन से आपके वोकल कॉर्ड (स्वर ग्रंंथि) को भी नुकसान हो सकता है।

  5. चुकंदर में विटामिन-ई की मात्रा भी पाई जाती है, जिसका गर्भावस्था के दौरान अधिक सेवन करने से जन्म लेने वाले बच्चे के वजन पर असर पड़ सकता है।

  6. इसमें विटामिन-ए की मात्रा पाई जाती है और गर्भावस्था के दौरान विटामिन-ए का सेवन अधिक मात्रा में करने से बर्थ डिफॉर्मिटी (birth deformities) के जोखिम को बढ़ा सकता है। यह बच्चों में होने वाला एक प्रकार का जन्म दोष होता है।

  7. चुकंदर में पोटैशियम की अधिक मात्रा पाई जाती है और इसका अधिक सेवन खून में पोटैशियम की मात्रा बढ़ा सकता है जिससे हाइपरकलेमिया (hyperkalemia किडनी रोगों का जोखिम का खतरा बढ़ सकता है ।

  8. इसके जूस का सेवन आप के ब्लडप्रेशर के स्तर को कम कर सकता है। यदि आप को पहले से ही ब्लडप्रेशर कम की समस्या है, तो इसका सेवन खतरनाक हो सकता है।

Advertisements

आइए, अब जानते हैं कि आहार में चुकंदर को कैसे शामिल करैं ?

  1. चुकंदरके छिलके उतार कर चुकंदर जैसे खाया जाता है वैसे खा सकती हैं

  2. आप चुकंदरके जूस का सेवन कर सकते हैं।

  3. आप फलों के सलाद में चुकंदरको मिक्स कर सकते हैं।

  4. चुकंदर की चाय का सेवन कर सकते हैं।

  5. मसालेदार चुकंदर का सेवन कर सकते हैं।

  6. चुकंदर का पाउडर का सेवन कर सकते हैं।

चुकंदर एक ऐसी चीज है जिसका सेवन अगर सतर्कता और सही मात्रा के साथ किया जाए, तो इसके फायदे अनगिनत हैं। हम आशा करते हैं इस लेख से आपको गर्भावस्था के दौरान चुकंदर खाने से जुड़े सवालों के जवाब मिल चुके होंगे। अगर अभी भी आपके मन में कोई उलझन है, तो आप उसे कमेंट के जरिए हम तक पहुंचा सकते हैं। इस लेख को देखने, शेयर व लाइक करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यबाद ,

Advertisements

Tags :-

गर्भावस्था में चुकंदर का सेवन सही या गलत,Beetroot during pregnancy,चुकंदर गर्भवती को क्यों खिलाया जाता है, pregnancy me chukandar khane ke fayde,pregnancy me chukandar khane se kya hota hai,pregnancy me chukandar kha sakte hai ki nahi,garbhavastha me chukandar ke fayde, प्रेग्नेंसी में चुकंदर कब खाना चाहिए,beetroot in pregnancy, beetroot juice during pregnancy, pregnancy me chukandar khane se kya fayda hota hai, pregnancy me chukandar khane ke fayde, beetroot in pregnancy in hindi,
Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *