घट रामायण – ghat ramayan in hindi online

घट रामायण’ ,घट,रामायण’

घट रामायण – ghat ramayan in hindi online

संत तुलसी साहब कृत ‘घट रामायण’ 19वीं सदी की वह अद्भुत कृति है, जो एक बार पुनः उस युग में व्याप्त सम्पूर्ण धार्मिक आडम्बरों को पूरी प्रतिबद्धता के साथ विनष्ट करके पाठकों में परम तत्व के ज्ञान के प्रति नई समझ उत्पन्न करती है।

 

ghat ramayan (part -1) in hindi pdf free download

 सन्त मत की सैद्धान्तिक साधना के गूढ़़ मर्म में प्रवेश करके उससे सम्बद्ध रहस्यों की व्याख्या यहां तार्किक, स्पष्ट, मर्मस्पर्शी तथा बोधगम्य बनाकर समझाना इस कृति का मूल मन्तव्य है।

 

ghat ramayan (part -2) in hindi pdf free download

 

संत मत के रहस्यपूर्ण तथा अत्यन्त गम्भीर विषय पिंड में समग्र ब्रां̃ंड का खुला तथा मर्मस्पर्शी विवेचन इस रचना का विषय है किन्तु उसी के साथ-ही-साथ लोक मंे व्याप्त धार्मिक आडम्बरों के विविध पक्षों का तर्कपूर्ण खण्डन यह स्पष्ट करता है कि यह कृति केवल सिद्धान्त पक्ष ही नहीं, लोक को उसका वास्तविक ज्ञान कराने के लिए उसके व्यवहार पक्ष पर भी बल देती है।

 

ghat ramayan (part -3) in hindi pdf free download

 

यह कृति अपने समसामयिक युग ही नहीं वर्तमान समाज के लिए भी ज्ञान का वह प्रकाश है, जो धर्म, जीवन, उपासना एवं आध्यात्मिक साधनामार्ग पर भटक रहे हम भारतीयों के लिए सन्मार्ग दिखाने के प्रति संकल्पबद्ध है। यह कृति इस अर्थ में आज आध्यात्मिक ज्ञानमार्ग की अप्रतिम उपलब्धि है क्योंकि आडम्बर, अंधविश्वास तथा समाज में धार्मिक आचरण के नाम पर भटकते हुए समाज को सर्वथा विश्वास, आत्मबोध एवं प्रपंचों से मुक्त होने की समझ देती है।

 

ghat ramayan (part -4) in hindi pdf free download

 

 आध्यात्मिक साधना तथा भारतीय धार्मिक लोकजीवन की रचना का अद्भुत समन्वय से  यह कृति आज न केवल भारतीय अध्यात्मक परम्परा की एक गम्भीर साक्ष्य है, अपितु समाज के लिए मार्ग दर्शन का भी कार्य करती है। आशा है, धार्मिक मान्यताओं से टूटे हुए तथा आडम्बरपूर्ण आचरण में वर्तमान भारतीय समाज के लिए यह कृति स्वयं में एक सिद्धिदात्री ज्ञानलोकमयी प्रकाश प्रतिमा सिद्ध होगी।

Advertisements

Advertisements

Tags:

tulsi sahib hathras wale,free download ghat ramayan,ghat ramayan in english,ghat ramayan tulsidas,ratan sagar tulsi sahib pdf,tulsi sahib books,tulsi sahib in hindi,tulsi sahib quotes,
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *