जगत के रंग क्या देखूं तेरा दीदार काफी है भजन लिरिक्स

जगत के रंग क्या देखूं तेरा दीदार काफी है भजन लिरिक्स  | Jagat Ke Rang Kya Dekhu Bhajan Lyrics

Mp3 Audio

Advertisements

************ भजन लिरिक्स **************

जगत के रंग क्या देखूं,

तेरा दीदार काफी है।

क्यों भटकूँ गैरों के दर पे,

तेरा दरबार काफी है॥

 

नहीं चाहिए ये दुनियां के,

निराले रंग ढंग मुझको,

निराले रंग ढंग मुझको,

चली जाऊँ मैं वृंदावन,

चली जाऊँ मैं वृंदावन,

तेरा दरबार काफी है,

जगत के रंग क्या देखूं,

तेरा दीदार काफी है॥

 

जगत के साज बाजों से,

हुए हैं कान अब बहरे,

हुए हैं कान अब बहरे,

कहाँ जाके सुनूँ बंशी,

कहाँ जाके सुनूँ बंशी,

मधुर वो तान काफी है,

जगत के रंग क्या देखू,

तेरा दीदार काफी है॥

 

जगत के रिश्तेदारों ने,

बिछाया जाल माया का,

बिछाया जाल माया का,

तेरे भक्तों से हो प्रीति,

तेरे भक्तों से हो प्रीति,

श्याम परिवार काफी है,

जगत के रंग क्या देखू,

तेरा दीदार काफी है॥

 

जगत की झूटी रौनक से,

हैं आँखें भर गयी मेरी,

हैं आँखें भर गयी मेरी,

चले आओ मेरे मोहन,

चले आओ मेरे मोहन,

दरश की प्यास काफी है॥

 

जगत के रंग क्या देखूं,

तेरा दीदार काफी है

क्यों भटकूँ गैरों के दर पे,

तेरा दरबार काफी है ॥

 

Bhajan Video

Album Name: Tera Jaat Khadya Muskave

Singer Name: Pujya Jaya Kishori Ji

Copyright: SCI

Advertisements

Tags:-

lyrics, bhajan with lyrics, lyrics bhajan,latest bhajan,2021 bhajan lyrics, bhajan 2021 lyrics,new bhajan lyrics , hindi bhajan video lyrics, Bhajan ,Bhakti Bhajan,dcgyan,dcgyan.com, in,hindi,in hindi,2021,हिंदी में, भजन, लिरिक्स, भजन लिरिक्स, हिंदी, में, हिंदी में भजन लिरिक्स,जगत के रंग क्या देखूं तेरा दीदार काफी है भजन लिरिक्स  , Jagat Ke Rang Kya Dekhu Bhajan Lyrics,
Share this:
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments