जन्म से १९ वर्ष की आयु अनुसार विशेष आहार : kis umar me kya khana chahiye

जन्म से १९ वर्ष की आयु अनुसार विशेष आहार ,kis umar me kya khana chahiye

जन्म से १९ वर्ष की आयु अनुसार विशेष आहार : kis umar me kya khana chahiye

शरीर को स्वस्थ व मजबूत बनाने के लिए प्रोटीन्स, विटामिन्स व खनिज (minerals) युक्त पोषक पदार्थो की आवश्यकता जीवनभर होती है | विभिन्न (जन्म से १९ वर्ष की ) आयुवर्गो हेतु विभिन्न पोषक तत्त्व जरुर्री होते है, किस उम्र में कौन-सा तत्त्व सर्वाधिक आवश्यक है

Advertisements

जन्म से लेकर ५ वर्ष की आयु तक : Baccho ke liye healthy food

  • इस उम्र में बच्चों के स्वस्थ शरीर तथा मजबूत हड्डियों के लिए विटामिन ‘डी’ जो कैल्शियम ग्रहण करने में मदद करता है व लोह तत्त्व अत्यावश्यक होता है |

  • विटामिन ‘डी’ की पूर्ति में दूध, घी, मक्खन, गेंहूँ, मक्का जैसे पोषक पदार्थ तथा प्रात:कालीन सूर्य की किरणें दोनों अत्यंत मददरूप होते है |

  • किसी एक की भी कमी होने से बच्चों को हड्डियाँ कमजोर व पतली रह जाती है, वे सुखा रोग से ग्रस्त हो जाते है, अत: स्तनपान छुड़ाने के बाद बच्चों के आहार में लोह व विटामिन ‘डी’ युक्त पदार्थ जरुर शामिल करने चाहिए |

Advertisements

६ से १९ वर्ष की आयु तक : Kishoravastha ke liye healthy food

  • ६ से १२ वर्ष की आयु बाल्यावस्था और १३ से १९ वर्ष की आयु किशोरवस्था है |

  • इस आयु में शरीर तथा हड्डियों का तेजी से विकास होता है इसलिए कैल्शियम की परम आवश्यकता होती है | बड़ी उम्र में हड्डियों की मजबूती इस आयु में लिए गये कैल्शियम की मात्रा पर निर्भर रहती है | दूध, दही, छाछ, मक्खन, तिल, मूंगफली, अरहर, मुंग, पत्तागोभी, गाजर, गन्ना. संतरा, शलजम, सूखे मेवों व अश्वगंधा में कैल्शियम खूब होता है |

  • आहार – विशेषज्ञों के अनुसार इस आयुवर्ग को कैल्शियम की आपूर्ति के लिए प्रतिदिन एक गिलास दूध अवश्य पीना चाहिए |

  • इस उम्र में लौह की कमी से बौद्धिक व शारीरिक विकास में रुकावट आती है | राजगिरा, पालक,मेथी, पुदीना, चौलाई, आदि हरी सब्जियों एवं खजूर, किशमिश, मनुक्का, अंजीर, काजू, खुरमानी आदि सूखे मेवों तथा करेले, गाजर, टमाटर, नारियल, अंगूर, अनार, अरहर, चना, उड़द, सोयाबीन आदि पदार्थो के उपयोग से लौह तत्त्व की आपूर्ति सहजता से की जा सकती है |

  • किशोरावस्था में प्रजनन क्षमता के विकास हेतु जस्ता (zinc) एक महत्त्वपूर्ण खनिज है | सभी अनाजों में यह पाया जाता है | इस आयु में खनिज की कमी से बालकों का स्वभाव हिंसक व क्रोधी हो जाता है तथा बालिकाओं में भूख की कमी एवं मानसिक तनाव पैदा होता है | अनाज, दालों, सब्जियों व कन्दमुलों (गाजर, शकरकंद, मुली, चुकंदर आदि) में खनिज विपुल माता में होते है |

Advertisements

Tags:

 विशेष आहार, kis umar me kya khana chahiye,kab kya khana chahiye,उम्र के साथ अगर यह लेंगे तो हमेसा रहेंगे जवान ,Swasth Rahne ke Niyam,जानिये किस उम्र कैसा हो आपका आहार, kya khana chahiye,subah kya khana chahiye,kya nahi khana chahiye,क्या खाना चाहिए और क्या नहीं,बेबी को क्या खाना चाहिए,क्या क्या खाना चाहिए गोरा होने के लिए,क्या खाना चाहिए जब बीपी कम है,fever m kya khana chahiye,प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए हिंदी,शुगर में क्या खाना चाहिए हिंदी,
Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *