दस्त Diarrhea, कारण Causes और आपकी देखभाल Your Care

dast

दस्त Diarrhea, कारण Causes और आपकी देखभाल Your Care

दस्त में आपको बार बार शौच जाना पड़ता है या आपका मल ढीला और तरल होता है।  दस्त ज़्यादातर 2 से 3 दिन तक रहते हैं। यदि ये इससे अधिक समय तक रहें, तो यह अन्य समस्याओं की निशानी हो सकते हैं। यदि आपके दस्त 3 दिन में ठीक नहीं होते या आप की तबियत और खराब हो जाती है, तो अपने चिकित्सक से मिलिए। यदि शिशुओं और बच्चों को 1 से अधिक दिन दस्त रहते हैं, तो चिकित्सक से मिलिए।dast

कारण Causes

  1. संक्रमण, जैसे कि वायरस संक्रमण

  2. घबराहट और तनाव

  3. एन्टिबायोटिक्स जैसी कुछ दवाइयाँ और कीमोथैरपी

  4. कुछ इलाजों का दुष्प्रभाव

  5. आँत की बीमारियाँ

  6. आँतों की सर्जरी या पेट में विकिरण दिया जानाdast

कुछ आहार जिनसे दस्त हो सकते हैं या बढ़ सकते हैं:

  1. अधिक रेषे वाले खाद्य पदार्थ

  2. मसाले वाले, चरबी वाले या तले हुए खाद्य पदार्थ

  3. अत्यधिक गर्म या ठंडा आहार

  4. दूध और डेयरी उत्पाद

  5. शराब

  6. कॉफी, चाय, कोला और चॉकलेट जैसे कैफीन वाले खाद्य या पेय पदार्थ

  7. एन्ष्योर और बूस्ट जैसे पोशण अनुपूरक।

यदि आप किसी अनुपूरक का उपयोग करते हैं और आपको लगे कि दस्त बढ़ गए हैं, तो अपने नर्स, आहार विषेशज्ञ (डायटीषियन) या चिकित्सक से बात करें।

आपकी देखभाल Your Care

पेय पदार्थ लगातार और निश्चित रूप से लेते रहें। अगर खाने से और अधिक दस्त या ऐंठन न हो, तो खाईए।dast

इन सुझावों पर अमल कर देखिएः

  1. दस्त बंद न हों, तब तक दूध और डेयरी उत्पादों से दूर रहें।

  2. दिन में कम से कम 8 ग्लास पानी पीजिए।

  3. दिन भर हर 2 से 3 घण्टे के बाद थोड़ा थोड़ा खाएँ।

सफेद ब्रेड, सादे बेगल, क्रैकर, सफेद चावल, पकी हुईं सब्ज़ियाँ, गेहूँ के सिरियल का क्रीम या एपल सॉस जैसे कम रेषों वाले आहार लें।

यदि खाने से ऐंठन होती है, तो एक-दो दिन साफ तरल पदार्थों का आहार लीजिए। पानी, षोरबा, पिडीयालाइट, स्पोटर्स पेय, नींबू सोडा या डीकैफिनेटेड चाय पीजिए। सादे जेलो और पोपसिकल भी खाये जा सकते हैं।

जैसे-जैसे आपका दस्त अच्छा होता जाए, वैसे-वैसे कम मात्रा में केले, चावल, एप्पल सॉस और टोस्ट खा कर देखिए। यदि आप का मल फिर से ठोस होने लगे, तो मैष किये हुए आलू और नूडल्स जैसे नरम खाद्य पदार्थ भी आहार में शामिल कीजिए।

आपकी आँतें क्या प्रतिक्रिया करतीं हैं, यह जानने के लिए धीरे धीरे अपने भोजन में अन्य खाद्य पदार्थ शामिल करते जाइए।

  1. खूब आराम कीजिए और अपना तनाव कम करने की कोषिष कीजिए।

  2. हर बार मल त्याग के बाद अपने हाथ अच्छी तरह से धो लें।

  3. हर बार मल त्याग के बाद, अपने मलाशय को नरम कपडे, गुनगुने पानी और नर्म साबुन

  4. से धो लें। सादे गुनगुने पानी से धो कर त्वचा को थपका कर सुखाएँ।

  5. मलाशय के दर्द को कम करने के लिए गुनगुने पानी से भरे टब में बैठें। यदि आप को फोड़े हो जाएँ, तो अपने चिकित्सक या नर्स से स्वयं द्वारा इस्तेमाल किए जा सकने वाले मरहम के बारे में पूछें।

  6. अपने चिकित्सक के निर्देा अनुसार दस्त की दवाई लें।dast

यदि आपके ये लक्षण हों, तो फौरन अपने चिकित्सक को बुलाएँ:

  1. कँपकँपी, उल्टी या बेहोष आए।

  2. बहुत तेज़ प्यास लगे।

  3. 5 डिग्री F या 38 डिग्री C से ज़्यादा बुखार हो।

  4. आपके पेट में ऐसा दर्द हो जो मल त्याग से कम न हो या गैस हो।

  5. आपका मल काला हो या उसमें खून हो।

  6. आप बहुत कमज़ोर या थका हुआ महसूस करें।

यदि आपके कोई प्रश्न या चिंताएं हों तो अपने डॉक्टर या नर्स से बात करें।

Talk to your doctor or nurse if you have any questions or concerns.

Tags:

Advertisements
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *