पतंजलि  योग दर्शन -patanjali krit yog darshan online pdf download

योग दर्शन

पतंजलि  योग दर्शन -patanjali krit yog darshan online pdf download

प्रकृति, पुरुष के स्वरुप के साथ ईश्वर के अस्तित्व को मिलाकर मनुष्य जीवन की आध्यात्मिक, मानसिक और शारीरिक उन्नति के लिये दर्शन का एक बड़ा व्यावहारिक और मनोवैज्ञानिक रूप योगदर्शन में प्रस्तुत किया गया है। इसका प्रारम्भ पतंजलि मुनि के योगसूत्रों से होता है। योगसूत्रों की सर्वोत्तम व्याख्या व्यास मुनि द्वारा लिखित व्यासभाष्य में प्राप्त होती है। इसमें बताया गया है कि किस प्रकार मनुष्य अपने मन (चित) की वृत्तियों पर नियन्त्रण रखकर जीवन में सफल हो सकता है और अपने अन्तिम लक्ष्य निर्वाण को प्राप्त कर सकता है।

 

योगदर्शन, सांख्य की तरह द्वैतवादी है। सांख्य के तत्त्वमीमांसा को पूर्ण रूप से स्वीकारते हुए उसमें केवल ‘ईश्वर’ को जोड़ देता है। इसलिये योगदर्शन को ‘सेश्वर सांख्य’ (स + ईश्वर सांख्य) कहते हैं और सांख्य को ‘ कहा जाता है।

 

इस पुस्तक को ऑनलाइन पढ़ें  |

 

 

इस पुस्तक को डाऊनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Tags

yog darshan book in hindi pdf,yog darshan book writer,yog darshan writer,patanjali yog darshan in english,yoga darshan in sanskrit,yog ke 6 darshan ke naam,yog darshan ke lekhak,yog darshan kya hai,gita press,yoga book in hindi pdf free download,charak ayurveda book in hindi,mimansa darshan,sankhya darshan in hindi pdf,chitta vritti in hindi,patanjali yog darshan in English,yoga darshan in sanskrit,patanjali yog darshan by kolhatkar,yoga darshan swami niranjanananda pdf,yog ki vyakhya,yoga darshana philosophy,
Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *