प्रेगनेंसी में आलूबुखारा खाना चाहिए या नहीं || Pregnancy Me Aalu Bukhara Khana Chahiye Ya Nahi,

प्रेगनेंसी में आलूबुखारा खाना चाहिए या नहीं || Pregnancy Me Aalu Bukhara Khana Chahiye Ya Nahi,

dry aloo bukhara in pregnancy

घर के बड़े-बुजुर्ग अक्सर गर्भावती महिलाओं को सलाह देते रहते हैं कि ये मत खाओ, ये खाओ, ये लाभदायक होगा और ये नुकसानदायक है। हर किसी से इस तरह के सुझाव मिलने की वजह से गर्भवती महिलाएं हमेशा असमंजस में रहती हैं कि क्या-खाना चाहिए और क्या नहीं। कुछ ऐसा ही संशय आलूबुखारे को लेकर है। तो आइए, सबसे पहले जान लेते हैं कि आलूबुखारे और सूखे आलूबुखारे को प्रेग्नेंसी के दौरान खाना चाहिए या नहीं?

आलूबुखारा पोटैशियम, फास्फोरस, कैल्शियम और विटामिन सी से समृद्ध होता है। इसलिए, इसका सेवन गर्भावस्था में किया जा सकता है, इसमें मौजूद कैल्शियम आपके और भ्रूण के लिए जरूरी पोषक तत्व है, लेकिन इसका सेवन संतुलित मात्रा में ही करें। एक अध्ययन के मुताबिक, गर्भावस्था में सूखे आलूबुखारे के अर्क का इस्तेमाल करने से भ्रूण का विकास अच्छे और तेजी से हो सकता है|
Advertisements

आलूबुखारा और सूखा आलूबुखारा दोनों ही हमारे शरीर के लिए पौष्टिक हैं। खट्टे-मीठे स्वाद से भरपूर आलूबुखारे में वो सभी तत्व मौजूद हैं, जो एक हेल्दी प्रेग्नेंसी के लिए जरूरी होते हैं।

आलूबुखारे को लो-कैलोरी फूड माना जाता है, इसलिए गर्भास्था में इसका सेवन अन्य पोषक तत्वों के साथ ही करना चाहिए। अगर आप महज आलूबुखारे का ही सेवन करेंगी, तो प्रेग्नेंसी के समय आपके शरीर को पर्याप्त कैलोरी नहीं मिल पाएगी। आप इसका सेवन ज्यादा मात्रा में न करें। ऐसा करने पर आपकी और भ्रूण की सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। प्रेग्नेंसी के दौरान दो से तीन आलूबुखारे को ही आहार में शामिल करना स्वास्थ्यवर्धक माना गया है प्रेग्नेंसी में आलूबुखारा खाने के कई लाभ हो सकते हैं। बशर्ते यह संतुलित मात्रा में खाया जाए।

Video 

आइए, जानते हैं कि आलूबुखारा के प्रेग्नेंसी में स्वास्थ्य लाभ।

  1. ब्लड ग्लूकोज के स्तर को बनाए रखता है:- गर्भावस्था में होने वाले शारीरिक बदलाव की वजह से रक्त शर्करा (ब्लड ग्लूकोज) का स्तर बढ़ जाता है, जिस वजह से महिलाओं को गर्भावधि मधुमेह (जेस्टेशनल डायबिटीज) हो जाता है। इस दौरान कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए, जिसमें प्लम भी शामिल है । इसलिए, आलूबुखारा आपके शरीर में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है । रक्तवाहिका रोग (Blood Vessel Disease)

  2. पाचन में सहायक: आलूबुखारा में मौजूद फाइबर आपके पाचन क्रिया को भी ठीक करता है। इसका सेवन आपके पाचन में सहायक साबित हो सकता है ।dcgyan

  3. कब्ज में राहत: गर्भवतियों में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन के कारण कब्ज की समस्या हो सकती है । साथ ही आयरन सप्लीमेंट भी कब्ज का कारण बन सकते हैं। इस दौरान आप कब्ज से राहत पाने के लिए आलूबुखारा या सूखे आलूबुखारे का सेवन कर सकती हैं। सूखे आलूबुखारे का रस इसमें ज्यादा लाभकारी माना जाता है ।dast

  4. समय से पूर्व प्रसव से बचाव: गर्भवती के आहार में विटामिन सी की कमी की वजह से समय से पूर्व प्रसव होने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में विटामिन सी आपके पूर्व प्रसव के जोखिम को कम करने में मदद करता है। इसलिए, आप अपने खाद्य पदार्थ में आलूबुखारा शामिल कर सकती हैं ।

  5. हड्डी स्वास्थ्य: गर्भवतियों को हड्डी स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए कैल्शियम की जरूरत होती है । आलूबुखारा खाना गर्भावस्था में सेहतमंद है। इसलिए, कैल्शियम से भरपूर आलूबुखारे और सूखे आलूबुखारे को आहार में शामिल किया जा सकता है ।dcgyan

  6. ऊर्जा बढ़ाने में सहायक:- गर्भावस्था में अक्सर महिलाओं को कमजोरी का एहसास होता है। इस दौरान कमजोरी दूर करने के लिए आलूबुखारा का सेवन कर सकती हैं। ये आपके शरीर में ऊर्जा का संचार करेगा ।dcgyan

  7. खून की कमी दूर करे: गर्भवतियों को आयरन की कमी से खून की कमी यानी एनीमिया से जूझना पड़ सकता है। ऐसे में आलूबुखारा आपके शरीर में आयरन की कमी को दूर कर आपको एनीमिया से बचा सकता है ।

Advertisements

धन्यवाद , आपको यह जानकारी पसन्द आयी है तो लाइक करें और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें |

Tags :-

pregnancy mein aloo bukhara khana chahiye ya nahi, pregnancy me aalu bukhara khane ke fayde, pregnancy me aalu bukhara ke fayde, aalu bukhara in pregnancy in hindi,plum during pregnancy,kya pregnancy me aalu bukhara khana chahiye ya nahi,प्रेगनेंसी में आलूबुखारा खाना चाहिए या नहीं,,aloo bukhara,benefits of plums during pregnancy,plums for weight loss,plum fruit benefits for skin,health benefits, weight loss,heart disease, dry aloo bukhara in pregnancy,

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *