मर्दाना ताकत बढ़ाने के लिए राजा-महाराजा यूज़ करते थे ये नुस्खे

मर्दाना ताकत बढ़ाने के लिए राजा-महाराजा यूज़ करते थे ये नुस्खे

पुराने राजा-महाराजाओं के यहां आयुर्वेदिक वाजीकरण नुस्खे बनाने वाले विशेष वैद्य और हकीम रहा करते थे जो आयुर्वेदिक ग्रंथों के आधार पर जड़ी-बूटियों, रसायनों और धातुओं से ताकत वाली दवाएं तैयार करते थे। इन जड़ी-बूटियों में मौजूद ताकत देने वाले इन्ग्रीडिएंट्स के कारण राजा-महाराजा सालों-साल यंग और स्टेमिना से भरपूर रहते थे। हालांकि इन राजाओं के नुस्खों में कुछ काफी महंगे आईटम जैसे सोना, चांदी, मोती वगैरह इस्तेमाल होते थे लेकिन कुछ ऐसी जड़ी बूटियां भी इस्तेमाल होती थीं जो आसानी से मिल सकती हैं। यहाँ हम आपको कुछ ऐसे ही आसानी से उपलब्ध होने वाली जड़ी बूटियों के नुस्खों के बारे में बता रहे हैं जिन्हें आप भी फॉलो कर सकते हैं।

(Note- इन जड़ी-बूटियों और नुस्खों की जानकारी प्राचीन आयुर्वेदिक ग्रंथों चरक संहिता, भावप्रकाश के संदर्भ से एक्सपर्ट द्वारा दी गई है लेकिन इसके इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले लें। )

1. शिलाजीत

यूज़ – कमजोरी, एनर्जी की कमी, इम्युनिटी, बुढ़ापा, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन वगैरह के लिए।

नुस्खा – चावल के दाने के बराबर शिलाजीत या इसकी चुटकी भर भस्म को एक चम्मच गाय के घी या शहद के साथ लें।

2. अश्वगंधा

यूज़ – कमजोरी, थकान, लो स्पर्म काउंट, इम्युनिटी के लिए।

नुस्खा – सोने से पहले गुनगुने दूध के साथ एक चम्मच अश्वगंधा का पाउडर लें।

3. सफ़ेद मूसली

यूज़ – इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, इन्फर्टिलिटी, स्पर्म की कमी, कमजोरी, इम्पोटेंसी, इम्युनिटी के लिए।

नुस्खा – एक चम्मच मूसली पाउडर मिश्री और दूध के साथ रोज़ सुबह-शाम लें।
Advertisements

4. शतावर

यूज़ – इन्फर्टिलिटी, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, थकान, कमजोरी, लो स्पर्म काउंट, यूरिन प्रॉब्लम के लिए।

नुस्खा – एक-एक चम्मच मिश्री और गाय के घी के साथ आधा चम्मच शतावर का पाउडर लें। ऊपर से दूध पी लें।

5. केसर

यूज़- इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, इन्फर्टिलिटी, स्पर्म काउंट, कमजोरी, थकान के लिए।

नुस्खा- गुनगुने दूध में चुटकी भर केसर डालकर रात को सोने से पहले पिएं।

6. पुनर्नवा

यूज़- थकान, एंटी एजिंग, कमजोरी, इरेक्टल, डिस्फंक्शन, इम्युनिटी के लिए।

नुस्खा- आधा चम्मच पुनर्नवा का पाउडर एक चम्मच शहद के साथ सुबह-शाम लें।

7. आंवला

यूज़- यूरिन प्रॉब्लम, थकान, कमजोरी, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन, स्पर्म काउंट के लिए।

नुस्खा- एक चम्मच आंवला पाउडर समान मात्रा में मिश्री मिलाकर सोने से पहले लें। फिर गुनगुना दूध पी लें।

8. इमली के बीज

यूज़- थकान, एनर्जी की कमी, स्पर्म काउंट, इरेक्टाइल डिस्फंक्शन के लिए।

नुस्खा- इमली के बीजों को भूनकर उसका पाउडर बना लें। दो चमच्च सुबह शाम मिश्री और गुनगुने दूध के साथ लें।

Advertisements

Tags:

आयुर्वेदिक वाजीकरण नुस्खे hd ,आयुर्वेदिक वाजीकरण नुस्खे, how are आयुर्वेदिक वाजीकरण नुस्खें, tu आयुर्वेदिक वाजीकरण नुस्खे, इमली के बीज, आंवला, पुनर्नवा, केसर, शतावर, सफ़ेद मूसली, अश्वगंधा, शिलाजीत,

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *