मलेरिया(malaria)की छुट्टी कर देगा यह फकीरी नुस्खा |malaria home treatment in hindi

मलेरिया,फकीरी नुस्खा,malaria, home ,treatment,

मलेरिया :बस एक बार खाना है वर्ष भर नही होगा मलेरिया का बुखार | रामबाण फकीरी नुस्खा

मलेरिया(malaria)की छुट्टी कर देगा यह फकीरी नुस्खा |malaria home treatment in hindi

मलेरिया की अक्सीर (रामबाण) औषधिः

मलेरिया का बुखार लोगों को अलग-अलग प्रकार से आता है। मुख्यरूप से उसमें शरीर टूटता है, सिर दुःखता है, उल्टी होती है। कभी एकांतरा और कभी मौसमी रूप से भी मलेरिया का बुखार आता है और कई बार यह जानलेवा भी सिद्ध होता है।

प्रयोग :

इसकी एक सरल, सस्ती तथा ऋषिपरम्परा से प्राप्त औषधि हैः हनुमानजी को जिसके पुष्प चढ़ते हैं उस आकड़े की ताजी, हरी डाली को नीचे झुकाकर (ताकि दूध नीचे न गिरे) उँगली जितनी मोटी दो डाली काट लें। 

फिर उन्हें धो लें। धोते वक्त कटे हिस्से को उँगली से दबाकर रखें ताकि डाली का दूध न गिरे।

एक स्टील की तपेली में 400 ग्राम दूध (गाय का हो तो अधिक अच्छा) गर्म करने के लिए रखें।

उस दूध को आकड़े की दोनों डण्डियों से हिलाते जायें। थोड़ी देर में दूध फट जायेगा। जब तक मावा न तैयार हो जाये तब तक उसे आकड़े की डण्डियों से हिलाते रहें।

जब मावा तैयार हो जाये तब उसमें मावे से आधी मिश्री अथवा शक्कर डालकर (इलायची-बादाम भी डाल सकते हैं) ठण्डा होने पर एक ही बार में पूरा मावा मरीज को खिला दें। किन्तु बुखार हो तब नहीं, बुखार उतर जाने पर ही खिलायें।

इस प्रयोग से मरीज को वर्ष भर फिर दुबारा मलेरिया नहीं होगा। रक्त में मलेरिया की ‘रींग्स’ दिखेंगी तो भी बुखार नहीं आयेगा और मलेरिया के रोग से मरीज सदा के लिए मुक्त हो जायेगा।

विशेष : 1 से 6 वर्ष के बालकों पर यह प्रयोग नहीं किया गया है। 6 से 12 वर्ष के बालकों के लिए दूध की मात्रा आधी अर्थात् 200 ग्राम लें और उपरोक्तानुसार मावा बनाकर खिलायें।

अभी वर्तमान में जिसे मलेरिया का बुखार न आता हो वह भी यदि इस मावे का सेवन करे तो उन्हें वर्ष भर कभी मलेरिया न होगा। दिमाग के जहरी मलेरिया में भी यह प्रयोग अक्सीर इलाज का काम करता है। अतः यह प्रयोग सबके लिए करने जैसा है।

Tags:

ट्रीटमेंट ऑफ मलेरिया,मलेरिया की गोली,मलेरिया में क्या खाये,मलेरिया की आयुर्वेदिक दवा,कुनैन का पेड़,मलेरिया के उपचार,मलेरिया से बचाव,मलेरिया कितने प्रकार के होते हैं,मैच इंजेक्शन,मलेरिया मराठी माहिती,क्लोरोक्विन फॉस्फेट इंजेक्शन,राष्ट्रीय मलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम,मलेरिया ट्रीटमेंट मेडिसिन,मलेरिया कितने दिनों में ठीक होता है,मलेरिया डे,टाइफाइड के लक्षण,
Share this:
0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments