मुंशी प्रेमचंद जी का उपन्यास – निर्मला

मुंशी प्रेमचंद जी का उपन्यास – निर्मला

निर्मला, मुंशी प्रेमचन्द द्वारा रचित प्रसिद्ध हिन्दी उपन्यास है। इसका प्रकाशन सन 1927 में हुआ था। सन 1926 में दहेज प्रथा और अनमेल विवाह को आधार बना कर इस उपन्यास का लेखन प्रारम्भ हुआ। इलाहाबाद से प्रकाशित होने वाली महिलाओं की पत्रिका ‘चाँद’ में नवम्बर1925 से दिसम्बर 1926 तक यह उपन्यास विभिन्न किस्तों में प्रकाशित हुआ। महिला-केन्द्रित साहित्य के इतिहास में इस उपन्यास का विशेष स्थान है। इस उपन्यास की कथा का केन्द्र और मुख्य पात्र ‘निर्मला’ नाम की 15 वर्षीय सुन्दर और सुशील लड़की है। निर्मला का विवाह एक अधेड़ उम्र के व्यक्ति से कर दिया जाता है। जिसके पूर्व पत्नी से तीन बेटे हैं। निर्मला का चरित्र निर्मल है, परन्तु फिर भी समाज में उसे अनादर एवं अवहेलना का शिकार होना पड़ता है। उसकी पति परायणता काम नहीं आती। उस पर सन्देह किया जाता है, उसे परिस्थितियाँ उसे दोषी बना देती है। इस प्रकार निर्मला विपरीत परिस्थितियों से जूझती हुई मृत्यु को प्राप्त करती है। निर्मला में अनमेल विवाह और दहेज प्रथा की दुखान्त व मार्मिक कहानी है। उपन्यास का लक्ष्य अनमेल-विवाह तथा दहेज़ प्रथा के बुरे प्रभाव को अंकित करता है। निर्मला के माध्यम से भारत की मध्यवर्गीय युवतियों की दयनीय हालत का चित्रण हुआ है। उपन्यास के अन्त में निर्मला की मृत्यृ इस कुत्सित सामाजिक प्रथा को मिटा डालने के लिए एक भारी चुनौती है। प्रेमचन्द ने भालचन्द और मोटेराम शास्त्री के प्रसंग द्वारा उपन्यास में हास्य की सृष्टि की है।

मुंशी प्रेमचंद जी का उपन्यास – निर्मला भाग -1 | Famous Novel of Munsi Premchand – Podcast of Manorama Part 1

Video

Advertisements

मुंशी प्रेमचंद जी का उपन्यास – निर्मला भाग -2 | Famous Novel of Munsi Premchand – Podcast of Manorama Part 2

Video

Advertisements

मुंशी प्रेमचंद जी का उपन्यास – निर्मला भाग -3 | Famous Novel of Munsi Premchand – Podcast of Manorama Part 3

Video

Advertisements

मुंशी प्रेमचंद जी का उपन्यास – निर्मला भाग -4 | Famous Novel of Munsi Premchand – Podcast of Manorama Part 4

Video

Advertisements

मुंशी प्रेमचंद जी का उपन्यास – निर्मला भाग -5 | Famous Novel of Munsi Premchand – Podcast of Manorama Part 5

Video

Advertisements

 

Tags:

audio book,munshi premchand,premchand,story time,storytime,premchand ki kahaniya in hindi,kahani,hindi kahaniya,hindi kahani,audible,munshi premchand audio kahani,story telling,storytelling,audio,in hindi,podcast story,podcast,interesting stories,moral stories,मनसरोवर 1,story,प्रेमचंद का उपन्यास निर्मला,Premchand Novel Nirmala,मुंशी प्रेमचंद का उपन्यास निर्मला,Nirmala,Nirmala novel,hindi novel,उपन्यास निर्मला,निर्मला उपन्यास,nirmala upanyas in hindi
Share this:
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments