मुकुट सिर मोर का मेरे चित चोर का भजन लिरिक्स 

मुकुट सिर मोर का मेरे चित चोर का भजन लिरिक्स 

Mp3 Audio

Advertisements

************ भजन लिरिक्स **************

मुकुट सिर मोर का,

मेरे चित चोर का,

दो नैना नैना नैना,

दो नैना सरकार के,

कटीले हैं कटार से।।

 

आजा के भरलु तुझे,

अपनी बाहो में,

आजा छिपा लु तुझे,

अपनी निगाहो में,

दीवानों ने विचार के,

कहा ये पुकार के,

दो नैना सरकार के,

कटीले हैं कटार से।।

 

रास बिहारी नहीं,

तुलना तुम्हारी,

तुमसा ना देखा कोई,

पहले अगाडी,

के नुनराए वार के,

के नजरे उतार के,

दो नैना सरकार के,

कटीले हैं कटार से।।

 

प्रेम लजाये तेरी,

बाँकी अदाओं पर,

फुले घटाए तेरी,

तिरछी निगाहो पर,

की सौ चाँद वार के,

दीवाने गए हार के,

दो नैना सरकार के,

कटीले हैं कटार से।।

 

मुकुट सिर मोर का,

मेरे चित चोर का,

दो नैना नैना नैना,

दो नैना सरकार के,

कटीले हैं कटार से।।

 

Bhajan Video

 

 

Album : Pathar Ki Radha Pyari

Song : Mukut Sir Mor Ka

Singer : Prem Mehra

Lyrics : Prem Mehra

Advertisements

Tags:-

lyrics, bhajan with lyrics, lyrics bhajan,latest bhajan,2021 bhajan lyrics, bhajan 2021 lyrics,new bhajan lyrics , hindi bhajan video lyrics, Bhajan ,Bhakti Bhajan,dcgyan,dcgyan.com, in,hindi,in hindi,2021,हिंदी में, भजन, लिरिक्स, भजन लिरिक्स, हिंदी, में, हिंदी में भजन लिरिक्स, मुकुट सिर मोर का मेरे चित चोर का,
Share this:
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments