व्रत-परिचय ,- VRAT-PARICHAY in hindi pdf online

व्रत-परिचय ,-VRAT-PARICHAY, pdf,online,vrat,

व्रत-परिचय ,- VRAT-PARICHAY in hindi pdf online

प्रस्तुत पुस्तक में प्रत्येक मास में पड़ने वाले व्रतों के विस्तृत परिचय के साथ उन्हें सही ढंग से सम्पादित करने की विधि दी गयी है। इसके अतिरिक्त इसमें परिशिष्ट प्रकरण के अन्तर्गत अधिमासव्रत, संक्रान्तिव्रत, अयनव्रत, पक्षव्रत, वारव्रत, प्रायश्चित्तव्रत तथा अन्त में वटसावित्री, मंगलागौरी, संकष्टचतुर्थी, ऋषिपंचमी, शिवरात्रि आदि विभिन्न व्रतों की सुन्दर कथाएँ दी गयी हैं।

 
Advertisements

इस पुस्तक को ऑनलाइन पढ़ें  |

 

 

इस पुस्तक को डाऊनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

 
Advertisements

भारत में व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार है। व्रतों के प्रभाव से मनुष्यों की आत्मा शुद्ध होती है और संकल्प-शक्ति बढ़ती है। प्रस्तुत पुस्तक में प्रत्येक मास में पड़ने वाले व्रतों के विस्तृत परिचय के साथ उन्हें सही ढंग से सम्पादित करने की विधि दी गयी है। इसके अतिरिक्त इसमें परिशिष्ट प्रकरण के अन्तर्गत अधिमासव्रत, संक्रान्तिव्रत, अयनव्रत, पक्षव्रत, वारव्रत, प्रायश्चित्तव्रत तथा अन्त में वटसावित्री, मंगलागौरी, संकष्टचतुर्थी, ऋषिपंचमी, शिवरात्रि आदि विभिन्न व्रतों की सुन्दर कथाएँ दी गयी हैं। विभिन्न दृष्टियों से यह पुस्तक प्रत्येक परिवार के लिये उपयोगी होने के कारण अवश्य संग्रहणीय है।

Tags:

vrat katha book in hindi pdf,marwari festivals list,sanivar vrat katha,somvar vrat ke niyam,chandrayan vrat pdf,ekadashi vrat ka vidhi vidhan,nirjala ekadashi vrat samagri,utpanna ekadashi mahatmya,upvas rakhne ke fayde,ekadashi havan,kamika ekadashi vrat katha in English,barah mahino ke tyohar book,upvas ke niyam,upvas in Marathi,dubdi ki katha,annapurna vrat katha in hindi pdf,ekadashi mahatma,
Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *