सब जग ईश्वर-रूप है, sab jag ishvar roop hai in hindi pdf online

सब जग ईश्वर रूप है, sab, jag ,ishvar, roop

सब जग ईश्वर-रूप है, sab jag ishvar roop hai in hindi

वीरान जंगल में एक सुन्दर मकान था। एक साधु ने उसे देखकर सोचा- ‘कितना सुन्दर स्थान है यह! यहाँ बैठकर ईश्वर का ध्यान करूँगा।

 

एक चोर ने उसे देखा तो सोचा-‘वाह! यह तो सुन्दर स्थान है! चोरी का माल लाकर यहाँ रक्खा करूँगा।

इस पुस्तक को ऑनलाइन पढ़ें  |

 

 

इस पुस्तक को डाऊनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें |

 

एक दुराचारी ने देखा तो सोचा-‘यह तो अत्यन्त एकान्त स्थान है! दुराचार करने के लिए इससे उत्तम स्थान और कहाँ मिलेगा?’’

 

एक जुआरी ने देखकर सोचा-‘अपने साथियों को यहाँ लाउळँगा, यहाँ बैठकर हम जुआ खेलेंगे।

 

अलग-अलग दृष्टिकोण होने के कारण एक ही मकान को प्रत्येक व्यक्ति ने अलग-अलग रूप से देखा। जैसा दृष्टिकोण बनाओगे, वैसा अन्तःकरण बनेगा अवश्य। यदि तुम चाहते हो कि तुम्हारा अन्तःकरण अच्छा हो तो दृष्टिकोण अच्छा बनाओ।

 

सब जग ईश्वर-रूप है, भला बुरा नहिं कोय।

जैसी जाकी भावना, तैसा ही फल होय।।

 

Tags:

geeta press gorakhpur books pdf free download,vrat katha book in hindi pdf,marwari festivals list,sanivar vrat katha,somvar vrat ke niyam,chandrayan vrat pdf,ekadashi vrat ka vidhi vidhan,nirjala ekadashi vrat samagri,utpanna ekadashi mahatmya,upvas rakhne ke fayde,ekadashi havan,kamika ekadashi vrat katha in English,barah mahino ke tyohar book,upvas ke niyam,
Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *