हमारे वेदों के अनुसार स्वस्थ रहने के 15 नियम

food,eat,हमारे वेदों के अनुसार स्वस्थ रहने के 15 नियम

हमारे वेदों के अनुसार स्वस्थ रहने के 15 नियम

हमारे वेदों के अनुसार स्वस्थ रहने के नियम अपने जीवन में लागू कर लिए तो आपको डॉक्टर के पास जाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी और देश के 8 लाख करोड़ की बचत होगी । यदि आप बीमार है तो ये नियमों का पालन करने से आपके शरीर के सभी रोग ( BP , शुगर ) अगले 3 माह से लेकर 12 माह में ख़त्म हो जाएँगे ।

 

1- खाना खाने के 1.30 घंटे बाद पानी पीना है

Advertisements

2- पानी घूँट घूँट करके पीना है जिस से अपनी मुँह की लार पानी के साथ मिलकर पेट में जा सके , पेट में acid बनता है और मुँह में छार ,दोनो पेट में बराबर मिल जाए तो कोई रोग पास नहीं आएगा

water retention in face

3- पानी कभी भी ठंडा ( फ़्रीज़ का )नहीं पीना है।

 

4- सुबह उठते ही बिना क़ुल्ला किए 2 ग्लास पानी पीना है ,रात भर जो अपने मुँह में लार है वो अमूल्य है उसको पेट में ही जाना ही चाहिए ।

Advertisements

5- खाना ,जितने आपके मुँह में दाँत है उतनी बार ही चबाना है ।

 

6 -खाना ज़मीन में पलोथी मुद्रा या उखड़ूँ बैठकर ही भोजन करे ।

Meal, काम ,खाने,

7 -खाने के मेन्यू में एक दूसरे के विरोधी भोजन एक साथ ना करे जैसे दूध के साथ दही , प्याज़ के साथ दूध , दही के साथ उड़द दल

 

8 -समुद्री नमक की जगह सेंध्या नमक या काला नमक खाना चाहिए

Advertisements

9-रीफ़ाइन तेल , डालडा ज़हर है इसकी जगह अपने इलाक़े के अनुसार सरसों , तिल , मूँगफली , नारियल का तेल उपयोग में लाए । सोयाबीन के कोई भी प्रोडक्ट खाने में ना ले इसके प्रोडक्ट को केवल सुअर पचा सकते है , आदमी में इसके पचाने के एंज़िम नहीं बनते है ।

 

10- दोपहर के भोजन के बाद कम से कम 30 मिनट आराम करना चाहिए और शाम के भोजन बाद 500 क़दम पैदल चलना चाहिए

Advertisements

11- घर में चीनी (शुगर )का उपयोग नहीं होना चाहिए क्योंकि चीनी को सफ़ेद करने में 17 तरह के ज़हर ( केमिकल )मिलाने पड़ते है इसकी जगह गुड़ का उपयोग करना चाहिए और आजकल गुड बनाने में कॉस्टिक सोडा ( ज़हर ) मिलाकर गुड को सफ़ेद किया जाता है इसलिए सफ़ेद गुड ना खाए । प्राकृतिक गुड ही खाये । और प्राकृतिक गुड चोकलेट कलर का होता है। ।

 

12 – सोते समय आपका सिर पूर्व या दक्षिण की तरफ़ होना चाहिए ।

Advertisements

13- घर में कोई भी अलूमिनियम के बर्तन , कुकर नहीं होना चाहिए । हमारे बर्तन मिट्टी , पीतल लोहा , काँसा के होने चाहिए

 

14 -दोपहर का भोजन 11 बजे तक अवम शाम का भोजन सूर्यास्त तक हो जाना चाहिए

Advertisements

15. सुबह भोर के समय तक आपको देशी गाय के दूध से बनी छाछ (सेंध्या नमक और ज़ीरा बिना भुना हुआ मिलाकर ) पीना चाहिए । यदि आपने ये नियम अपने जीवन में लागू कर लिए तो आपको डॉक्टर के पास जाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी और देश के 8 लाख करोड़ की बचत होगी । यदि आप बीमार है तो ये नियमों का पालन करने से आपके शरीर के सभी रोग ( BP , शुगर ) अगले 3 माह से लेकर 12 माह में ख़त्म हो जाएँगे ।

Tags:

शारीरिक स्वास्थ्य,अच्छे स्वास्थ्य के लिए सुझाव,स्वस्थ जीवन,स्वस्थ रहने की आयुर्वेदिक दवा,स्वस्थ शरीर पर निबंध,स्वस्थ आहार,स्वस्थ रहने के सरल उपाय,स्वस्थ रहने के लिए भोजन का महत्व,फिट रहने के लिए क्या करें,स्वस्थ रहने के टोटके,स्वस्थ रहने के नियम,
Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *