Appendectomy symptoms, laparoscopic treatment, after appendix surgery side effects

Appendectomy

 

उपांत्रच्छेदन ( अपेंडेक्टॉमी)  Appendectomy symptoms, laparoscopic treatment, after appendix surgery side effects

उपांत्रच्छेदन एक शल्यक्रिया है जिससे उपांत्र (अपेडिक्स) को निकाला जाता है। अपेंडिक्स एक छोटी थैली होता है जो बड़ी आंत के सिरे पर अलग से होता है। अपेंडिक्स कभी-कभी अवरुद्ध होकर संक्रमित हो जाता है और सूज जाता है। संक्रमित अपेंडिक्स के लक्षणों में उदर के निचले दाहिने तरफ दर्द होना, बुखार आना, भूख बहुत कम लगना, मतली और उल्टी आना शामिल है। अगर अपेंडिक्स फट जाए तो आप बहुत बीमार हो सकते हैं।

इस शल्यक्रिया को करने के दो तरीके हैं:

खुली अपेंडेक्टॉमी,  उदर पर एक चीरा लगाया जाता है। अपेंडिक्स  को निकालने के लिए डॉक्टर इस बड़े चीरे के जरिए अपना काम करता है।

लैप्रोस्कोपिक अपेंडेक्टॉमी(appendectomy laparoscopic), उदर पर 3  या 4 छोटे चीरे लगाए जाते हैं।Appendectomy

अपेंडिक्स को निकालने के लिए

(appendectomy laparoscopic)

डॉक्टर छोटे चीरों के जरिए कैमरा और औजार डालकर काम करता है। इस तरह की शल्यक्रिया से आप अधिक तेजी से स्वास्थ्य लाभ कर सकता है, कम दर्द होता है, कम निशान पड़ते हैं, घाव होने की बहुत कम समस्या होती है और अक्सर अस्पताल में कम समय बिताना पड़ता है।परिवार के किसी वयस्क सदस्य या मित्र का आपके साथ आना जरूरी होता है ताकि वह शल्यक्रिया के बाद आपको घर ले जा सके। आपके लिए गाड़ी चलाना या अकेले जाना सुरक्षित नहीं है।

तैयार होना

अपने डॉक्टर को बताएं कि डॉक्टर के नुस्खे वाली दवाइयों, सीधे काउंटर पर मिलने वाली दवाइयों , विटामिनों और जड़ी-बूटियों सहित आप कौन-सी दवाएं ले रहे हैं।

यदि आपको दवाओं, खाद्य-पदार्थों या अन्य चीजों से कोई एलर्जी हो, तो स्टॉफ को बताएं।

अपनी शल्यक्रिया(appendectomy laparoscopic) के हो जाने के बाद तक न तो कुछ खाएं, न ही पिएं, पानी भी नहीं।Appendectomy

शल्यक्रिया के दौरान

appendectomy laparoscopic 

  1. आप अस्पताल का गाउन पहनेंगे।

  2. दवा और द्रव देने के लिए आपके हाथ की एक नस में एक आईवी(अंतःशिरा) सुई डाली जाएगी।

  3. आपको एक कार्ट पर शल्यक्रिया कक्ष में ले जाया जाता है। शल्यक्रिया मेज पर जाने में आपकी सहायता की जाती है। आपकी सुरक्षा के लिए आपके पैरों पर एक बेल्ट बांधी जा सकती है।

  4. आपको दवा दी जाएगी जिससे आप शल्यक्रिया के दौरान सोए रहेंगे। दवा आईवी या फेस मास्क के जरिए दी जाएगी। एक चीरा लगाया जाता है।

  5. लैप्रोस्कोपिक( laparoscopic) विधि में 3 या 4 चीरे लगाए जाते हैं।

  6. अपेंडिक्स हटा दिया जाता है।

  7. चीरे(रों) को टांकों, स्टेपलों या स्टेरी-स्ट्रिप्स कहे जाने वाले विशेष टेपोंसे बंद कर दिया जाता है। यदि टांके लगाए जाते हैं या स्टेपलों का प्रयोग होता है, तो उनके ऊपर बैंडेज लगा दिया जाता है।

शल्यक्रिया के बाद अस्पताल में

  1. आपको रिकवरी कक्ष में ले जाया जाता है जहां आपके जागने और ठीक से काम करने तक आप पर नजदीक से नजर रखी जाती है।

  2. आपकी श्वास-गति, रक्तचाप और नाड़ी की प्रायः कई बार जांच की जाती है।

  3. आपका डॉक्टर आपसे आपकी शल्यक्रिया के बारे में बात करेगा और बताएगा कि आप शल्यक्रिया के दौरान दी जाने वाली दवाएं आपको उनींदा बनाती हैं। आपको सुरक्षा के साथ घर ले जाने के लिए परिवार के किसी वयस्क सदस्य या मित्र का आपके साथ आना जरूरी होता है।

 घर पर

  1. आराम करें।

  2. अपने डॉक्टर द्वारा दिए गए निर्देशोंके अनुसार अपनी दवाएं लें।

  3. फॉलोअप मुलाकात निर्धारित करने के लिए अपने डॉक्टर को फोन करें।

  4. आप शॉवर ले सकते हैं। अपनी शल्यक्रिया के एक सप्ताह बाद तक टब में स्नान न करें।

  5. चीरे(रों) के ऊपर लगाई बैंडेज(जों) को अगले दिन शॉवर लेने से पहले निकाल लें। चीरों को साबुन और पानी से सावधानीपूर्वक साफ करें और तौलिए से थपकी देकर उन्हें सुखा लें। अपने चीरों के ऊपर नए बैंड-एड लगाएं। बैंड-एड के नम या गंदा होते ही उन्हें बदल लें।

  6. यदि आपके स्टेरी-स्ट्रिप्स लगे हैं, तो उन्हें वैसा ही छोड़ दें। वे अपने आप गिर जाएंगे।शल्यक्रिया के बाद आपको शौच जाने में कठिनाई हो सकती है। चलना और अधिक रेशे वाले अनाज, बीन्स, सब्जियां और होल ग्रेन ब्रेड खाना भी आपके लिए मददगार होगा। प्रति दिन 8 गिलास तरल पदार्थ पीना भी मददगार हो सकता है।

  7. शल्यक्रिया के बाद फेफड़ों के संक्रमण से बचाव के लिए आपको गहरी सांस लेने और खांसने वाले व्यायाम करना सिखाया जा सकता है। जागृत अवस्था में प्रत्येक घंटे और रात के दौरान जाग जाने पर गहरी सांस लें और खांसें। खांसते या गहरी सांस लेते समय अपने चीरे(रों) को सहारा देने के लिए तकिया का प्रयोग करना मददगार हो सकता है।

  8. तीन दिन तक 4.5 किलो (10 पौंड) से भारी वस्तुएं न उठाएं।

  9. जब तक आपका डॉक्टर ड्राइव करने की इजाजत न दे और आप दर्द कम करने की

  10. दवा लेना बंद न कर दें तब तक ड्राइव न करें।

  11. अन्य गतिविधियों की सीमा जानने के लिए अपने डॉक्टर या नर्स से बात करें।

  12. आपको 1 से 3 सप्ताहों में सामान्य गतिविधियां करने में फिर से सक्षम हो जाना चाहिए।

यदि आपको इनमें से कुछ हो तो तत्काल अपने डॉक्टर को फोन करें:

after appendix surgery side effects

  1. उदर या कंधों के क्षेत्र में दर्द होना जो दूर न हो या ज्यादा होने लगे बढ़ती लाली खरोंच या सूजन

  2. 38° C (101° F) से ज्यादा बुखार ठंड लगना, खांसी होना, या आप को कमजोरी और बदन में दर्द महसूस होना उल्टी होना, खुजली वाली त्वचा, त्वचा में सूजन या कोई नई फुंसी होना

  3. शौच में दिक्कत होना या अक्सर दस्त होना चीरे खुल जाएं।

  4. चीरों से फिर से खून आने लगे।

  5. आपको अचानक सांस लेने में परेशानी हो।

  6. छाती में दर्द हो।

 

यदि आपके कोई प्रश्न या चिंताएं हों तो अपने डॉक्टर या नर्स से बात करें।

Talk to your doctor or nurse if you have any questions or concerns.

Tags:  Aappendectomy symptoms,appendicitis symptoms,appendicitis treatment,laparoscopic appendectomy,appendectomy laparoscopic,what food can cause appendicitis,appendix surgery recovery time,appendix surgery pictures,appendix surgery cost,appendicitis in kids,what does the appendix do,after appendix surgery side effects,appendectomy recovery tips,

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *