Ram Chalisa in Hindi ,श्री राम चालीसा हिंदी अर्थ साहित

ram chalisa,ram chalisa in hindi,ram chalisa benefits,ram chalisa full,ram chalisameaning,ram chalisa arth sahit,ram chalisa chaupai,ram chandra chalisa,shri ram chandra chalisa,ram chalisa hindi,ram chalisa hindi me,ram chalisa hindi meaning,ram chalisa hindi arth,ram chalisa hd,ram chalisa in hindi with meaning,ram ji chalisa,ram ji chalisa in hindi,shri ram ji chalisa,ram chalisa ke labh,ram chalisa ke fayde,ram ji ki chalisa,ram chalisa lyrics,lord rama chalisa hindi,ram chalisa meaning in hindi,ram chalisa new,lyrics of ram chalisa,benefits of ram chalisa,meaning of ram chalisa,meaning of ram chalisa in hindi,ram chalisa ram chalisa,ram chalisa text,ram chalisa in hindi text,ram chalisa with meaning in hindi,ram chalisa with meaning,shri ram chalisa with meaning,

Ram Chalisa in Hindi ,श्री राम चालीसा हिंदी अर्थ साहित

जो कोई भी राम चालीसा(Ram Chalisa) का  पाठ करता है, उसके हृद्य में ज्ञान का प्रकाश होता है। उसका आवागमन मिट जाता है, यदि कोई भी सात दिनों तक नियम पूर्वक ध्यान लगाकर राम चालीसा (Ram Chalisa )का पाठ करता है, तो हरिदास जी कहते हैं कि भगवान विष्णु की कृपा से वह अवश्य ही भक्ति को पा लेता है। राम के चरणों में ध्यान लगाकर जो कोई भी, इस राम चालीसा को पढ़ता है, वह जो भी मन में इच्छा करता है, वह पूरी होती है। 

श्री राम चालीसा हिंदी वीडियो

 

 

॥चौपाई॥

श्री रघुबीर भक्त हितकारी। सुनि लीजै प्रभु अरज हमारी॥

निशि दिन ध्यान धरै जो कोई। ता सम भक्त और नहीं होई॥

ध्यान धरें शिवजी मन मांही। ब्रह्मा, इन्द्र पार नहीं पाहीं॥

दूत तुम्हार वीर हनुमाना। जासु प्रभाव तिहुं पुर जाना॥

जय, जय, जय रघुनाथ कृपाला। सदा करो संतन प्रतिपाला॥

हे रघुबीर, भक्तों का कल्याण करने वाले हे भगवान श्री राम हमारी प्रार्थना सुन लिजिये। हे प्रभु जो दिन रात केवल आपका ध्यान धरता है अर्थात हर समय आपका स्मरण करता है, उसके समान दूसरा भक्त कोई नहीं है। भगवान शिव भी मन ही मन आपका ध्यान करते हैं, ब्रह्मा, इंद्र आदि भी आपकी लीला को पूरी तरह नहीं जान सके। आपके दूत वीर हनुमान हैं तीनों लोकों में जिनके प्रभाव को सब जानते हैं। हे कृपालु रघुनाथ सदा संतो का प्रतिपालक श्री राम आपकी जय हो, जय हो, जय हो।

 

यह भी पढ़ें – श्री हनुमान चालीसा (हिंदी अर्थ सहित) (Shri Hanuman Chalisa in Hindi)

Advertisements

 

तुव भुजदण्ड प्रचण्ड कृपाला। रावण मारि सुरन प्रतिपाला॥

तुम अनाथ के नाथ गोसाईं। दीनन के हो सदा सहाई॥

ब्रह्मादिक तव पार न पावैं। सदा ईश तुम्हरो यश गावैं॥

चारिउ बेद भरत हैं साखी। तुम भक्तन की लज्जा राखी॥

गुण गावत शारद मन माहीं। सुरपति ताको पार न पाहिं॥

नाम तुम्हार लेत जो कोई। ता सम धन्य और नहीं होई॥

राम नाम है अपरम्पारा। चारिहु वेदन जाहि पुकारा॥

हे प्रभु आपकी भुजाओं में अपार शक्ति है लेकिन इनसे हमेशा कल्याण हुआ है, अर्थात आपने हमेशा अपनी कृपा बरसाई है। हे देवताओं के प्रतिपालक भगवान श्री राम आपने ही रावण जैसे दुष्ट को मारा।

हे प्रभु हे स्वामी जिसका कोई नहीं हैं उसका दामन आप ही थामते हैं, अर्थात आप ही उसके स्वामी हैं, आपने हमेशा दीन-दुखियों का कल्याण किया है। ब्रह्मा आदि भी आपका पार नहीं पा सके, स्वयं ईश्वर भी आपकी कीर्ति का गुणगान करते हैं। आपने हमेशा अपने भक्तों का मान रखा है प्रभु, चारों वेद भी इसके साक्षी हैं। हे प्रभु शारदे मां भी मन ही मन आपका स्मरण करती हैं। देवराज इंद्र भी आपकी महिमा का पार न पा सके। जो भी आपका नाम लेता है, उसके समान धन्य और कोई भी नहीं है। हे श्री राम आपका नाम अपरम्पार है, चारों वेदों ने पुकार-पुकार कर इसका ही बखान किया है। अर्थात चारों वेद आपकी महिमा को अपम्पार मानते हैं।   (Shri Ram Chalisa)

ram chalisa,ram chalisa in hindi,ram chalisa benefits,ram chalisa full,ram chalisameaning,ram chalisa arth sahit,ram chalisa chaupai,ram chandra chalisa,shri ram chandra chalisa,ram chalisa hindi,ram chalisa hindi me,ram chalisa hindi meaning,ram chalisa hindi arth,ram chalisa hd,ram chalisa in hindi with meaning,ram ji chalisa,ram ji chalisa in hindi,shri ram ji chalisa,ram chalisa ke labh,ram chalisa ke fayde,ram ji ki chalisa,ram chalisa lyrics,lord rama chalisa hindi,ram chalisa meaning in hindi,ram chalisa new,lyrics of ram chalisa,benefits of ram chalisa,meaning of ram chalisa,meaning of ram chalisa in hindi,ram chalisa ram chalisa,ram chalisa text,ram chalisa in hindi text,ram chalisa with meaning in hindi,ram chalisa with meaning,shri ram chalisa with meaning,

गणपति नाम तुम्हारो लीन्हो। तिनको प्रथम पूज्य तुम कीन्हो॥

शेष रटत नित नाम तुम्हारा। महि को भार शीश पर धारा॥

फूल समान रहत सो भारा। पावत कोऊ न तुम्हरो पारा॥

भरत नाम तुम्हरो उर धारो। तासों कबहूं न रण में हारो॥

नाम शत्रुहन हृदय प्रकाशा। सुमिरत होत शत्रु कर नाशा॥

लखन तुम्हारे आज्ञाकारी। सदा करत सन्तन रखवारी॥

ताते रण जीते नहिं कोई। युद्ध जुरे यमहूं किन होई॥

भगवान श्री गणेश ने भी आपके नाम का स्मरण किया, सबसे पहले उन्हें पूजनीय आपने ही बनाया। शेषनाग भी हमेशा आपके नाम का जाप करते हैं जिससे वे पृथ्वी के भार को अपने सिर पर धारण करने में सक्षम हुए हैं। आपके स्मरण से बड़े से बड़ा भार भी फूल के समान लगता है। हे प्रभु आपका पार कोई नहीं पा सकता अर्थात आपकी महिमा को कोई नहीं जान सकता। भरत ने आपका नाम अपने हृद्य में धारण किया इसलिए उसे युद्ध में कोई हरा नहीं सका। शत्रुहन के हृद्य में भी आपके नाम का प्रकाश था इसलिए तो आपका स्मरण करते ही वे शत्रुओं का नाश कर देते थे। लक्ष्मण आपके आज्ञाकारी थे जिन्होंनें हमेशा संतों की रखवाली की सुरक्षा की। उनसे भी कोई युद्ध नहीं जीत सकता था चाहे युद्ध में स्वयं यमराज क्यों न लड़ रहे हों।     (Ram Chalisa in Hindi)

Advertisements

महालक्ष्मी धर अवतारा। सब विधि करत पाप को छारा॥

सीता राम पुनीता गायो। भुवनेश्वरी प्रभाव दिखायो॥

घट सों प्रकट भई सो आई। जाको देखत चन्द्र लजाई॥

जो तुम्हरे नित पांव पलोटत। नवो निद्धि चरणन में लोटत॥

सिद्धि अठारह मंगलकारी। सो तुम पर जावै बलिहारी॥

आपके साथ-साथ मां महालक्ष्मी ने भी अवतार रुप लेकर हर विधि से पाप का नाश किया। इसीलिए सीता राम का पवित्र नाम गाया जाता है। मां भुवनेश्वरी अपना प्रभाव दिखाती हैं। माता सीता ने जब अवतार लिया तो वे घट यानि घड़े से प्रकट हुई इनका रुप इतना सुंदर था कि जिन्हें देखकर चंद्रमा भी शरमा जाए। हे प्रभु जो नित्य आपके चरणों को धोता है नौ निधियां उसके चरणों में लौट लगाती हैं। उसके लिए अठारह सिद्धियां ( मार्कंडेय पुराण के अनुसार सिद्धियां आठ होती हैं जबकि ब्रह्मवैवर्त पुराण में अठारह बताई गई हैं) मंगलकारी होती हैं जो आप पर न्यौछावर हैं।

 

औरहु जो अनेक प्रभुताई। सो सीतापति तुमहिं बनाई॥

इच्छा ते कोटिन संसारा। रचत न लागत पल की बारा॥

जो तुम्हरे चरणन चित लावै। ताकी मुक्ति अवसि हो जावै॥

सुनहु राम तुम तात हमारे। तुमहिं भरत कुल पूज्य प्रचारे॥

तुमहिं देव कुल देव हमारे। तुम गुरु देव प्राण के प्यारे॥

हे सीता पति भगवान श्री राम, अन्य जितने देवी-देवता हैं, सब आपने ही बनाए हैं। आपकी इच्छा हो तो आपको करोड़ों संसारों की रचना करने में भी पल भर की देरी न लगे। जो आपके चरणों में ध्यान लगाता है उसकी मुक्ति अवश्य हो जाती है। हे श्री राम सुन लिजिये आप ही हमारे पिता हैं, आप ही भारतवर्ष में पूज्य हैं। हे देव आप ही हमारे कुलदेव हैं, हे गुरु देव आप हमें प्राणों से प्यारे हैं।

Advertisements

जो कुछ हो सो तुमहिं राजा। जय जय जय प्रभु राखो लाजा॥

राम आत्मा पोषण हारे। जय जय जय दशरथ के प्यारे॥

जय जय जय प्रभु ज्योति स्वरुपा। नर्गुण ब्रहृ अखण्ड अनूपा॥

सत्य सत्य जय सत्यव्रत स्वामी। सत्य सनातन अन्तर्यामी॥

सत्य भजन तुम्हरो जो गावै। सो निश्चय चारों फल पावै॥

सत्य शपथ गौरीपति कीन्हीं। तुमने भक्तिहिं सब सिधि दीन्हीं॥

हे प्रभु श्री राम हमारे जो कुछ भी हैं, सब आप ही हैं, हमारी लाज रखिये, आपकी जय हो प्रभु। हे हमारी आत्मा का पोषण करने वाले दशरथ प्यारे भगवान श्री राम, आपकी जय हो। हे ज्योति स्वरुप प्रभु, आपकी जय हो। आप ही निर्गुण ईश्वर हैं, जो अद्वितीय है, अखंडित है। हे सत्य रुप, सत्य के पालक आप ही सत्य हैं, आपकी जय हो। अनादिकाल से ही आप सत्य हैं, अंतर्यामी हैं। सच्चे हृद्य से जो आपका भजन करता है, उसे चारों फल प्राप्त होते हैं। इसी सत्य की शपथ भगवान शंकर ने की जिससे आपने उन्हें भक्ति के साथ-साथ सब सिद्धियां भी दी।

ram chalisa,ram chalisa in hindi,ram chalisa benefits,ram chalisa full,ram chalisameaning,ram chalisa arth sahit,ram chalisa chaupai,ram chandra chalisa,shri ram chandra chalisa,ram chalisa hindi,ram chalisa hindi me,ram chalisa hindi meaning,ram chalisa hindi arth,ram chalisa hd,ram chalisa in hindi with meaning,ram ji chalisa,ram ji chalisa in hindi,shri ram ji chalisa,ram chalisa ke labh,ram chalisa ke fayde,ram ji ki chalisa,ram chalisa lyrics,lord rama chalisa hindi,ram chalisa meaning in hindi,ram chalisa new,lyrics of ram chalisa,benefits of ram chalisa,meaning of ram chalisa,meaning of ram chalisa in hindi,ram chalisa ram chalisa,ram chalisa text,ram chalisa in hindi text,ram chalisa with meaning in hindi,ram chalisa with meaning,shri ram chalisa with meaning,

ज्ञान हृदय दो ज्ञान स्वरुपा। नमो नमो जय जगपति भूपा॥

धन्य धन्य तुम धन्य प्रतापा। नाम तुम्हार हरत संतापा॥

सत्य शुद्ध देवन मुख गाया। बजी दुन्दुभी शंख बजाया॥

सत्य सत्य तुम सत्य सनातन। तुम ही हो हमरे तन-मन धन॥

हे ज्ञान स्वरुप, हमारे हृद्य को भी ज्ञान दो, हे जगपति, हे ब्रह्माण्ड के राजा, आपकी जय हो, हम आपको नमन करते हैं। आपका प्रताप धन्य है, आप भी धन्य हैं, प्रभु आपका नाम सारे संतापों अर्थात सारे कष्टों का हरण कर लेता है। आप ही शुद्ध सत्य हैं, जिसे देवताओं ने अपने मुख से गाया था, जिसके बाद शंख की दुंदुभी बजी थी। अनादिकाल से आप ही सत्य हैं, हे प्रभु आप ही हमारा तन-मन-धन हैं।   (Ram Chalisa in Hindi)

 

याको पाठ करे जो कोई। ज्ञान प्रकट ताके उर होई॥

आवागमन मिटै तिहि केरा। सत्य वचन माने शिव मेरा॥

और आस मन में जो होई। मनवांछित फल पावे सोई॥

तीनहुं काल ध्यान जो ल्यावै। तुलसी दल अरु फूल चढ़ावै॥

साग पत्र सो भोग लगावै। सो नर सकल सिद्धता पावै॥

अन्त समय रघुबर पुर जाई। जहां जन्म हरि भक्त कहाई॥

श्री हरिदास कहै अरु गावै। सो बैकुण्ठ धाम को पावै॥

जो कोई भी इसका पाठ करता है, उसके हृद्य में ज्ञान का प्रकाश होता है, अर्थात उसे सत्य का ज्ञान होता है। उसका आवागमन मिट जाता है, भगवान शिव भी मेरे इस वचन को सत्य मानते हैं। यदि और कोई इच्छा उसके मन में होती हैं तो इच्छानुसार फल प्राप्त होते हैं। जो कोई भी तीनों काल प्रभु का ध्यान लगाता है। प्रभु को तुलसी दल व फूल अर्पण करता है। साग पत्र से भोग लगाता है, उसे सारी सिद्धियां प्राप्त होती हैं। अंतिम समय में वह रघुबर पुर अर्थात स्वर्गलोक में गमन करता हैं, जहां पर जन्म लेने से ही जीव हरिभक्त कहलाता है। श्री हरिदास भी गाते हुए कहते हैं वह बैकुण्ठ धाम को प्राप्त करता है।

Advertisements

॥दोहा॥

सात दिवस जो नेम कर, पाठ करे चित लाय।

हरिदास हरि कृपा से, अवसि भक्ति को पाय॥

राम चालीसा जो पढ़े, राम चरण चित लाय।

जो इच्छा मन में करै, सकल सिद्ध हो जाय॥

यदि कोई भी सात दिनों तक नियम पूर्वक ध्यान लगाकर पाठ करता है, तो हरिदास जी कहते हैं कि भगवान विष्णु की कृपा से वह अवश्य ही भक्ति को पा लेता है। राम के चरणों में ध्यान लगाकर जो कोई भी, इस राम चालीसा को पढ़ता है, वह जो भी मन में इच्छा करता है, वह पूरी होती है।  (Shri Ram Chalisa Hindi)

Tags:  ram chalisa,ram chalisa in hindi,ram chalisa benefits,ram chalisa full,ram chalisameaning,ram chalisa arth sahit,ram chalisa chaupai,ram chandra chalisa,shri ram chandra chalisa,ram chalisa hindi,ram chalisa hindi me,ram chalisa hindi meaning,ram chalisa hindi arth,ram chalisa hd,ram chalisa in hindi with meaning,ram ji chalisa,ram ji chalisa in hindi,shri ram ji chalisa,ram chalisa ke labh,ram chalisa ke fayde,ram ji ki chalisa,ram chalisa lyrics,lord rama chalisa hindi,ram chalisa meaning in hindi,ram chalisa new,lyrics of ram chalisa,benefits of ram chalisa,meaning of ram chalisa,meaning of ram chalisa in hindi,ram chalisa ram chalisa,ram chalisa text,ram chalisa in hindi text,ram chalisa with meaning in hindi,ram chalisa with meaning,shri ram chalisa with meaning,
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *