योगराज गुग्गुलु के फायदे , प्रयोग, खुराक और नुकसान | Yograj Guggulu ke fayde

योगराज गुग्गुलु के फायदे , प्रयोग, खुराक और नुकसान | Yograj Guggulu ke fayde | Yograj Guggulu benefits,uses,dosage and disadvantages in hindi

योगराज गुग्गुल गोली के रूप में एक बहुत ही प्रसिद्ध आयुर्वेदिक दवा है। इस आयुर्वेदिक औषधि का उपयोग विभिन्न प्रकार के गठिया रोग के उपचार में किया जाता है। इसके अलावा इस औषधि के कई अलग-अलग उपयोग भी हैं,

गुग्गुलु कल्पना के तहत तैयार की जाने वाली यह आयुर्वेदिक औषधि वात व्याधि एवं आम दोष में प्रमुखता से उपयोग की जाती है | योगराज गुग्गुल गठिया, पाचन, आमवात, उदर कृमि एवं गुल्म आदि रोगों में भी प्रमुखता से प्रयोग की जाती है | यह शरीर की धातुओं को पौषित करके शरीर में बलवर्द्धन का कार्य भी करती है |

Advertisements

योगराज गुग्गुलु के घटक द्रव / Yograj Guggulu Ingredients

योगराज गुग्गुलु के निर्माण में निम्न औषधियों का प्रयोग किया जाता है |

चित्रकमूल     –  1 भाग

यवानी          –  1 भाग

विडंग           –  1 भाग

पिप्पली मूल  –  1 भाग

कृष्ण जीरक  –  1 भाग

अजमोदा      –   1 भाग

श्वेत जीरा    –    1 भाग

देवदारु        –    1 भाग

चव्य           –    1 भाग

शुक्ष्मैला       –    1 भाग

सैंधव लवण  –    1 भाग

कुष्ठ           –     1 भाग

रास्ना          –     1 भाग

गोक्षुर          –     1 भाग

धनियाँ        –      1 भाग

हरीतकी       –      1 भाग

आमलकी     –      1 भाग

विभितकी    –       1 भाग

मुस्ता         –       1 भाग

शुंठी           –       1 भाग

पिप्पली      –        1 भाग

कालीमिर्च   –        1 भाग

उशीर         –        1 भाग

दालचीनी    –        1 भाग

तालिश्पत्र   –         1 भाग

तेजपत्र       –        1 भाग

यवक्षार      –         1 भाग

शुद्ध गुग्गुलु –        27 भाग

सहायक द्रव्य – गोघृत आवश्यकतानुसार |

योगराज गुग्गुलु बनाने की विधि / How to Make Yograj Guggulu ?

इसे बनाने के लिए सबसे पहले 1 से लेकर 27 तक की सभी जड़ी – बूटियों को अलग – अलग कूटकर चूर्ण कर लिया जाता है | चूर्ण को बिलकुल बारीक किया जाता है , इसके पश्चात 27 भाग शुद्ध गुग्गुलु में इन चूर्ण को मिलाकर एवं घी डाकार थोड़ी देर इमाम दस्ते में मर्दन किया जाता है ताकि योग थोडा मुलायम हो सके | इस मिश्रण को गुग्गुलु पाक करके भी मुलायम किया जाता है | गुग्गुलुपाक के लिए शुद्ध गुग्गुलु में थोडा पानी मिलाकर आग पर चढ़ा कर गुग्गुलपाक किया जाता है , इसके पश्चात इसमें घी मिलाकर थोडा कूटने से भी योग मुलायम हो जाता है |

योग को मुलायम इसकी गोलियां बनाने के लिए की जाती है | मुलायम होने के पश्चात इसकी 1 – 1 ग्राम की गोली बना ली जाती है |

बाजार में यह औषधि पतंजलि, बैद्यनाथ, धुतपापेश्वर, डाबर एवं श्री मोहता आदि की उपलब्ध है |

Advertisements

योगराज गुग्गुलु के फायदे और उपयोग : Yograj Guggulu benefits and Uses (labh) in Hindi

1.अर्श अर्थात बवासीर की समस्या में भी आयुर्वेदिक चिकित्सक इसका प्रयोग करवाते है |

2.गुल्म रोग में उपयोगी |

3.शारीरिक दौर्बल्य |

4.पाचन संबंधी व्याधि में उपयोगी औषधि |

5.भूख बढाने में भी सहायक औषधि |

6.त्वचागत व्याधियों में भी अच्छे परिणाम देती है |

7.सभी प्रकार के वात विकारों में लाभदायक औषधि |

8.समस्त प्रकार की वातव्याधि में इसका प्रयोग किया जाता है |

9.पाचन को ठीक करती है |

10.जोड़ो के दर्द एवं गठियावाय में इसका उपयोग लाभदायक होता है |

11.प्लीहा रोगों में भी इसका सेवन लाभदायक होता है |

12.आमवात की उत्तम औषधि है |

13.संधि वात में लाभदायक |

14.कृमिरोग में योगराज गुग्गुल का सेवन किया जाता है |

15.दुष्टव्रण (जटिल घाव) में उपयोगी |

16.पेट के सभी रोगों में फायदेमंद होती है |

Advertisements

योगराज गुग्गुलु के सेवन की मात्रा (How Much to Consume Yograj Guggulu?)

2 से 6 गोली, सुबह-शाम |

योगराज गुग्गुलु के सेवन का तरीका (How to Use Yograj Guggulu?)

1. वात-विकारों में दशमूल क्वाथ के साथ 2 से 6 गोली, सुबह-शाम तथा बलवृद्धि और शरीर पुष्टि के लिए गो-दुग्ध के साथ दें।

2.वातरक्त में गोमूत्र या गिलोय (गूर्च) का रस और मधु के साथ दें।

3.उदर-विकार में पुनर्नवा रस के साथ दें, शिरोरोग में गरम दूध से,

4. मेद रोग में केवल मधु से ,

5.पित्त विकार में गुर्च या धनियाँ-क्वाथ के साथ

6. कफ दोष में अश्वगन्धादि क्वाथ या पीपल के क्वाथ से दें।

Advertisements

योगराज गुग्गुलु के नुकसान (Side Effects of Yograj Guggulu):-

1.इस दवा के साथ कोई ज्ञात दुष्प्रभाव नहीं हैं फिरभी योगराज गुग्गुलु लेने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श जरुर करें ।

2.योगराज गुग्गुलु को डॉक्टर की सलाह अनुसार ,सटीक खुराक के रूप में समय की सीमित अवधि के लिए लें ।

3.इस औषधि को ठंडी एवं सुखी जगह पर ही रखना चाहिए ।

4.इस औषधि को बच्चों से दूर रखना चाहिए ।

योगराज गुग्गुलु कैसे प्राप्त करें ? ( How to get Yograj Guggulu)

यह योग इसी नाम से बना बनाया आयुर्वेदिक औषधि विक्रेता के यहां मिलता है।

कहाँ से खरीदें  :-  अमेज़ॉन,नायका,स्नैपडील,हेल्थ कार्ट,1mg Offers,Medlife Offers,Netmeds Promo Codes,Pharmeasy Offers,

ध्यान दें :- Dcgyan.com के इस लेख (आर्टिकल) में आपको योगराज गुग्गुलु के फायदे, प्रयोग, खुराक और नुकसान के विषय में जानकारी दी गई है,यह केवल जानकारी मात्र है | किसी व्यक्ति विशेष के उपयोग करने से पहले चिकित्सक से परामर्श करना आवश्यक है |

Tags:-

Ayurveda,Ayurved,Health,Health Benefits,Natural Remedies,Home Remedies,Ayurvedic Treatment,Ayurvedic medicine,Maharishi Ayurveda,dcgyan,dcgyan.com, Yograj Guggulu ke fayde,योगराज गुग्गुलु के फायदे,योगराज गुग्गुलु प्रयोग,योगराज गुग्गुलु की खुराक, योगराज गुग्गुलु के नुकसान,योगराज गुग्गुलु के सेवन की मात्रा, योगराज गुग्गुलु के सेवन का तरीका,योगराज गुग्गुलु के नुकसान,योगराज गुग्गुलु कैसे प्राप्त करें, Yograj Guggulu benefits,Yograj Guggulu uses,Yograj Guggulu dosage, Yograj Guggulu disadvantages,health benefits of Yograj Guggulu,health benefits of Yograj Guggulu in hindi ,in hindi,How Much to Consume Yograj Guggulu,How to Use Yograj Guggulu, Side Effects of Yograj Guggulu,How to get Yograj Guggulu,Yograj Guggulu,योगराज गुग्गुलु,

अन्य लेख (Other Articles)

Share this:
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments